क्रिप्टोक्यूरेंसी निवेश

ब्रोकरेज क्या होता है

ब्रोकरेज क्या होता है
इस मॉडल में शून्य या फिर न्यूनतम शुल्क लगता है, जबकि डिस्काउंट ब्रोकर अन्य प्रकार के ट्रेडों, वायदा और विकल्प (एफ एंड ओ) या इंट्रा-डे के लिए पैसे लेते हैं। इसमें आप उसी दिन स्टॉक खरीदते और बेचते हैं, इसलिए डिलीवरी नहीं लेते। जिस श्रेणी में ब्रोकरेज शुल्क शामिल है, वह एक से दूसरे में अलग-अलग हो सकता है। उदाहरण के लिए, कोटक सिक्योरिटीज लिमिटेड ने गुरुवार को एक जीरो ब्रोकरेज इंट्रा-डे प्लान लॉन्च किया। इसमें अन्य सभी एफ एंड ओ ट्रेडों के लिए 20 रुपये प्रति ऑर्डर शुल्क है।

ICICI Bank Share: नतीजों से उत्साहित ब्रोकरेज हाउसेज की राय, ICICI Bank के शेयर में आ सकती है 30% की उछाल

By: ABP Live | Updated at : 25 Jul 2022 07:06 PM (IST)

ICICI Bank Share Price: आईसीआईसीआई बैंक के शानदार नतीजों के बाद विदेशी ब्रोकरेज हाउस बैंक के शेयर को लेकर बेहद बुलिश नजर आ रहे हैं और निवेशकों को शेयर खरीदने की सलाह दे रहे हैं. ब्रोकरेज हाउसेज का मानना है कि आईसीआईसीआई बैंक लगातार बेहतर नतीजे पेश कर रहा है. जिससे बैंक पर निवेशकों को भरोसा बढ़ा है.

30 फीसदी रिटर्न संभव!
ज्यादातर ब्रोकरेज हाउस आईसीआईसीआई बैंक के शेयर खरीदने की सलाह दी है और इनका मानना है कि आने वाले दिनों में शेयर 30 फीसदी तक का रिटर्न दे सकता है. ब्रोकरेज हाउसेज की बात करें तो सीएलएसए (CLSA) का मानना है कि आईसीआईसीआई बैंक का शेयर 1040 रुपये तक जा सकता है. यानि मौजूदा स्तर से शेयर 30 फीसदी तक का रिटर्न निवेशकों को दे सकता है. वहीं बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटिज ने 1,000 रुपये तक के लक्ष्य के साथ शेयर खरीदने की सलाह दी है. सोमवार को बाजार के क्लोजिंग पर आईसीआईसीआई बैंक ब्रोकरेज क्या होता है का शेयर 0.11 फीसदी की तेजी के साथ 800.90 रुपये पर ब्रोकरेज क्या होता है बंद हुआ है.

ICICI Bank Share: नतीजों से उत्साहित ब्रोकरेज हाउसेज की राय, ICICI Bank के शेयर में आ सकती है 30% की उछाल

By: ABP Live | Updated at : 25 Jul 2022 07:06 PM (IST)

ICICI Bank Share Price: आईसीआईसीआई बैंक के शानदार नतीजों के बाद विदेशी ब्रोकरेज हाउस बैंक के शेयर को लेकर बेहद बुलिश नजर आ रहे हैं और निवेशकों को शेयर खरीदने की सलाह दे रहे हैं. ब्रोकरेज हाउसेज का मानना है कि आईसीआईसीआई बैंक लगातार बेहतर नतीजे पेश कर रहा है. जिससे बैंक पर निवेशकों को भरोसा बढ़ा है.

30 फीसदी रिटर्न संभव!
ज्यादातर ब्रोकरेज हाउस ब्रोकरेज क्या होता है आईसीआईसीआई बैंक के शेयर खरीदने की सलाह दी है और इनका मानना है कि आने वाले दिनों में शेयर 30 फीसदी तक का रिटर्न दे सकता है. ब्रोकरेज हाउसेज की बात करें तो सीएलएसए (CLSA) का मानना है कि आईसीआईसीआई बैंक का शेयर 1040 रुपये तक जा सकता है. यानि मौजूदा स्तर से शेयर 30 फीसदी तक का रिटर्न निवेशकों को दे सकता है. वहीं बैंक ऑफ अमेरिका सिक्योरिटिज ने 1,000 रुपये तक के लक्ष्य के साथ शेयर खरीदने की सलाह दी है. सोमवार को बाजार के क्लोजिंग पर आईसीआईसीआई बैंक का शेयर 0.11 फीसदी की तेजी के साथ 800.90 रुपये पर बंद हुआ है.

जिस ट्रेडिंग कंपनी के जरिए शेयर बाजार में पैसा लगा रहे, वही बंद हो गई तो क्‍या होगा? जानिए आपका पैसा डूबेगा या बचा रहेगा

जिस ट्रेडिंग कंपनी के जरिए शेयर बाजार में पैसा लगा रहे, वही बंद हो गई तो क्‍या होगा? जानिए आपका पैसा डूबेगा या बचा रहेगा

TV9 Bharatvarsh | Edited By: आशुतोष वर्मा

Updated on: Jul 22, 2021 | 10:32 AM

अब आम आदमी भी शेयर बाजार में निवेश कर ज्‍यादा रिटर्न पाने में रुचि दिखा रहा है. यही कारण है कि बीते एक साल में रिकॉर्ड संख्‍या में डीमैट अकाउंट खोले गए हैं. पिछले महीने तक के आंकड़ों के अनुसार देशभर में करीब 6.9 करोड़ डीमैट अकांउट्स हैं. हालांकि, दूसरे देशों के मुकाबले आबादी के लिहाज से यह अनुपात अभी भी बहुत कम है. भारतीय शेयर बाजार में सबसे ज्‍यादा पैसा महाराष्‍ट्र, गुजरात और उत्‍तर प्रदेश के लोग लगाते हैं. लक्षद्वीप, अंडमान एवं निकोबार से लेकर मिज़ोरम तक के लोग शेयर बाजार से अच्‍छी कमाई कर रहे हैं.

ब्रोकरेज कंपनी बंद होने पर आपके निवेश का क्‍या होगा?

आप यह जानकार राहत की सांस ले सकते हैं कि स्‍टॉक ब्रोकिंग कंपनी के डिफॉल्‍ट करने या बंद होने के बाद भी आपकी पूंजी या फंड पूरी तरह से सुरक्षित रहेगा. ऐसा नहीं होगा कि स्‍टॉक ब्रोकर आपकी पूंजी लेकर भाग जाए. उदाहरण के तौर पर देखें तो जब हर्षद मेहता स्‍कैम ब्रोकरेज क्या होता है सामने आया था, तब उनकी ब्रोकिंग कंपनी ग्रो मोर रिसर्च एंड एसेट मैनेजमेंट को सेबी ने बैन कर दिया था. लेकिन इस कंपनी के जरिए शेयर बाजार में पैसा लगाने वाले लोगों को कोई नुकसान नहीं हुआ.

आपको सबसे पहले यह समझने की जरूरत कि ये स्‍टॉक ब्रोकिंग कंपनियां महज एक बिचौलिए के तौर पर काम करती हैं. आपके फंड पर इनकी पहुंच सीधे तौर पर नहीं होती है ताकि वे आपकी पूंजी पर अपना हम जमा सकें. लेकिन इनके पास पड़ी अपनी फंड या पूंजी को इस्‍तेमाल करने के लिए आप इन्‍हें निर्देश दे सकते हैं.

स्‍टॉक्‍स और शेयरों का क्‍या होगा?

आपका फंड डीमैट अकाउंट में जमा होता है. ये डीमैट अकाउंट डिपॉजिटरीज के पास खुलात है. सेबी ने दो डिपॉजिटरीज – नेशनल सिक्‍योरिटीज डिपॉजिटरीज लिमिटेड (NSDL) और सेंट्रल डिपॉजिटरी सर्विसेज (इंडिया) लिमिटेड (CDSL) को मंजूरी दी है. भारत सरकार के वित्‍त मंत्रालय के प्रति सेबी की जवाबदेही होती है.

किसी भी ब्रोकरेज क्या होता है समय पर एक निवेशक का स्‍टॉक या शेयर ब्रोकरेज फर्म्‍स के पास नहीं होता है. वे बस एक प्‍लेटफॉर्म के तौर पर काम करते हैं. इनका काम बस आपके निर्देश के हिसाब से आपकी जगह ट्रेड करना है. बदले ब्रोकरेज क्या होता है में ये आपसे फीस वसूलते हैं.

इसी प्रकार आपका म्‍यूचुअल फंड इन्‍वेस्‍टमेंट एसेट मैनेजमेंट कंपनी (AMC) के पास होता है. ऐसे में अगर ब्रोकरेज फर्म बंद भी हो जाता है तो आपका म्‍यूचुअल फंड सुरक्षित रहेगा.

What is Stock Broker and Brokrage fee-in Hindi .


Stock Market में काम करने वाले बहुत से लोग stock broking service के बारे में जानना चाहते है, कि स्टॉक ब्रोकर क्या है और ये क्या काम करते है? लोग ब्रोकरेज फीस के बारे में जानना चाहते है। इस आर्टिकल में आप What is Stock Broker and Brokrage Fee के बारे में विस्तार से जानेगे।

What and is stock broker and brorage fee in hindi.

स्टॉक ब्रोकर

Stock Broker रजिस्टर्ड फाइनेंसियल रिप्रजेंटेटिव पेशेवर होते हैं। शेयर ब्रोकर एक इन्वेस्टमेंट सलाहकार और साधारण ब्रोकर का कार्य करता है। Stock Broker, शेयर और दूसरी securities के Stock Market में अपने ग्रहकों की ओर से buy और sell के ऑर्डर पूरे करते हैं। स्टॉक ब्रोकर ब्रोकरेज फर्म से जुडे होते हैं तथा वह इन्टीटूशनल और रिटेल कस्टमर के ट्रांजेक्शन हैंडल करते हैं। स्टॉक ब्रोकर को एक निवेश सलाहकार के रूप में भी जाना जाता है।

Full-service broker

फुल सर्विस ब्रोकर लइसेंसयुक्त बड़ी ब्रोकर डीलर फर्म होती है। जो अपने क्लाइंटो को रिसर्च रिपोर्ट आधारित निवश सलाह, ट्रेडिंग टिप्स, टेक्स प्लानिंग सलाह आदि मुहैया कराती है। Full-service broker की ब्रोकरेज फीस Discount broker की तुलना में ज्यादा होती है। इनकी Brokrage fee 0.50 % से 0.75 % तक हो सकती है। इसे भी पढ़ें-How to Buy and Sell Stocks Online - In hindi
फुलसर्विस स्टॉक ब्रोकर उन लोगो के लिए ठीक है, जिन्हे निवेश तथा ट्रेडिंग के लिए सलाहकार की जरूरत होती है। जिन्हे शेयर मार्केट के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं होती। ऐसे इन्वेस्टर जिनका बड़ा पोर्टफोलियो होता है। उनके लिए फुलसर्विस ब्रोकर सही होते है।

शून्य ब्रोकरेज शुल्क में भी जोखिम नहीं कम, पहले चेक करें ब्रोकर का ट्रैक रिकॉर्ड

शून्य ब्रोकरेज शुल्क में भी जोखिम नहीं कम, पहले चेक करें ब्रोकर का ट्रैक रिकॉर्ड

शून्य ब्रोकरेज शुल्क भारत में स्टॉक ब्रोकिंग का एक आकर्षक मॉडल बनकर उभरा है। इसने इक्विटी निवेशकों के लिए लागत में कटौती करके पारंपरिक पूर्ण सेवा मॉडल को चुनौती दी है। इस मॉडल को खासतौर पर कोरोना संकट काल के दौरान ग्राहकों ने खासा पसंद किया है। शेयरों में निवेश के लिए कई कंपनियां शून्य ब्रोकरेज की पेशकश करती हैं, लेकिन इसमें जहां ग्राहकों का फायदा है तो जोखिम भी कम नहीं। ऐसे में अच्छे ट्रैक रिकॉर्ड वाले ब्रोकर का साथ आपके लिए बेहद जरूरी है।

रेटिंग: 4.42
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 490
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *