क्रिप्टोक्यूरेंसी निवेश

लागत औसत

लागत औसत

ध्यान के शीर्ष 10 लाभ

ध्यान के शीर्ष 10 लाभ: हमारे सभी कार्यों, विचारों, आंदोलनों और आग्रहों को हमारे मन द्वारा नियंत्रित किया जाता है। यदि सब कुछ मन द्वारा नियंत्रित किया जाता है और यह हर चीज के लिए जिम्मेदार होता है। तब क्या हमारा मन ही हमारे सभी पछतावे, अपराधबोध, अप्रसन्नता, असंतोष और भावनाओं के लिए जिम्मेदार नहीं है। आखिरकार अगर हमारी सारी समस्याओं के लिए हमारा दिमाग जिम्मेदार है तो क्यों न हम काम करें या अपने दिमाग को ही मजबूत करें। ऐसा करने से हम अपनी सभी समस्याओं का एक ही बार में समाधान कर सकते हैं। ध्यान आपके दिमाग को मजबूत करने के सबसे प्रभावी और प्रभावशाली तरीकों में से एक है। ध्यान नियमित मन-शरीर अभ्यास के माध्यम से जागरूकता प्राप्त करने की एक तकनीक है। इसमें आपके श्वास पैटर्न, विचारों और गहरे दृश्य पर ध्यान केंद्रित करने वाले पहलू शामिल हैं। तो चलिए बात करते हैं मेडिटेशन के कुछ फायदों के बारे में जो आपके जीवन को हमेशा के लिए बदल और बदल सकते हैं।

ध्यान के शीर्ष 10 लाभ

तनाव में कमी और चिंता प्रबंधन में फायदेमंद

आज के समय में तनाव सभ्य दुनिया की सबसे बड़ी चिंताओं में से एक बन गया है। किशोर हो या वयस्क हर कोई हाइपर या पुरानी तनाव की समस्याओं का सामना कर रहा है। जो अंततः चिंता और अवसाद की ओर ले जाता है। मानसिक स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं और तनाव के मुद्दों का मुख्य कारण तेजी से भागती जीवनशैली है जहां लोग सब कुछ खो चुके हैं। लोगों ने अपनी भावनाओं और भावनाओं का ट्रैक भी खो दिया है। मध्यस्थता एक ऐसी चीज है जो आपको आपकी गहरी चेतना की समझ देती है और आपको आपकी सच्ची भावनाओं और भावनाओं से भी जोड़ती है।

स्वस्थ रक्तचाप बनाए रखने में मदद करता है

इस समय दुनिया के आधे से अधिक वयस्क या तो मधुमेह या असामान्य रक्तचाप (हाई या लो बीपी) से पीड़ित हैं। असामान्य बीपी और मधुमेह जीवनशैली से जुड़ी दो सबसे आम बीमारियां हैं। दोनों एक तरह का धीमा जहर है क्योंकि आमतौर पर मधुमेह या उच्च रक्तचाप प्रकृति में घातक नहीं होते हैं लेकिन कई घातक बीमारियों को जन्म देने के लिए जाने जाते हैं। असामान्य ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों को अकेले दवा से ठीक नहीं किया जा सकता है, बीपी की समस्या से निपटने के लिए जीवनशैली में बदलाव जरूरी है। मेडिटेशन एक वैज्ञानिक रूप से सिद्ध तरीका है जो रक्तचाप को कम करने में मदद करता है।

प्रतिरक्षा प्रणाली में सुधार

प्रतिरक्षा एक बहुत ही महत्वपूर्ण एजेंट है जो हमारे शरीर को बीमारियों की रोकथाम में मदद करता है। एक मजबूत प्रतिरक्षा प्रणाली हमारे शरीर से अधिकांश हानिकारक वायरस को बाहर निकाल सकती है और हमें किसी भी बीमारी से बचा सकती है। यहां तक कि एक सामान्य सर्दी जैसी बुनियादी चीज भी एक बड़े संक्रमण या गंभीर स्वास्थ्य चिंता में बदल सकती है यदि प्रतिरक्षा प्रणाली द्वारा ध्यान नहीं दिया जाता है। आप में से ज्यादातर लोग सोच रहे होंगे कि प्रतिरोधक क्षमता का दिमाग से क्या लेना-देना। जैसा कि प्रतिरक्षा सभी भोजन के सेवन के बारे में है और एक भौतिक चीज अधिक है। लेकिन याद रखें कि शरीर एक समग्र तंत्र है और पेट से मस्तिष्क तक गर्मी से सब कुछ जुड़ा हुआ है। और यह देखा गया है कि नियमित ध्यान आपकी प्रतिरक्षा प्रणाली को भी बढ़ा सकता है।

फोकस में सुधार करता है

ज्यादातर मामलों में यह भी देखा गया है कि नियमित ध्यान करने से आपका फोकस बेहतर होता है। ध्यान के रूप में ध्यान केंद्रित करने और कल्पना करने के बारे में है। ध्यान के नियमित अभ्यास से बेहतर दक्षता के साथ लंबे समय तक चीजों पर ध्यान केंद्रित करने की आपकी मानसिक क्षमता में सुधार होता है। ध्यान केंद्रित करने की यह बढ़ी हुई क्षमता किसी भी व्यक्ति के लिए गेमचेंजर हो सकती है। बेहतर फोकस प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से आपकी दक्षता और उत्पादकता में वृद्धि करेगा।

भावनात्मक संतुलन

भावनाएँ हमारे अस्तित्व के सबसे मौलिक भागों में से एक हैं। भावनाओं के बिना हम रोबोट में बदल जाएंगे। भावना ही एकमात्र कारक है जो हमें मशीनों से अलग करती है। लेकिन भावनाएं दोधारी तलवार की तरह होती हैं जो अगर सही तरीके से नहीं संभाली जाती हैं तो यह हमारे पक्ष और विपक्ष में काम करती हैं। अधिकांश लोग भावनाओं को नियंत्रित करना चाहते हैं, लेकिन इसके बजाय हमें पहले भावनाओं को संतुलित करना चाहिए। ध्यान हमें भावनाओं को समझने, मूल्यांकन करने और संतुलित करने के लिए सभी आवश्यक उपकरण और तरकीबें प्रदान करता है।

मूड स्विंग्स की आवृत्ति को कम करता है

मूड स्विंग्स आपके कार्य उत्पादकता और दक्षता को परेशान करने वाले सबसे बड़े कारकों में से एक हैं। नियमित रूप से मिजाज भी समय के साथ आपके रिश्तों को विषाक्त बना सकता है। नियमित रूप से मूड स्विंग होने के कई कारण होते हैं। लेकिन मिजाज के सामान्य कारण चिंता और भावनाओं का उतार-चढ़ाव है। मेडिटेशन अपने आप को शांत करने और एक निश्चित अवधि के लिए ध्यान केंद्रित करने के बारे में है। यह तकनीक आपके ध्यान को बढ़ाती है और आपको एक मानसिक स्थिरता भी देती है। यह अंततः आपके मिजाज की आवृत्ति को कम करता है।

आज की प्रमुख कहानियां मिस न करें

आपको बेहतर और शांत महसूस कराता है

In life there are some things that can’t be expressed in words but have their own significance. One such thing is the feel good factor. Doing meditation can be a daunting task initially. Many people even feel overwhelmed by even doing a 5 minute meditation season. But mediation is something which gets better with time, practice and patience. After a point of time meditation sessions start to feel like a calming and healing season you won’t wish to miss.

नींद चक्र में सुधार करता है

एक अच्छी नींद मन और शरीर के लिए एक बेहतरीन उपचारक है। ध्यान का अभ्यास आपके नींद चक्र को बेहतर बनाने में मदद कर सकता है। नींद मुख्य रूप से तनाव और तनाव से परेशान होती है। लेकिन जब आपका मन शांत होता है, तो आपके लिए सो जाना आसान होगा। एक अच्छी नींद चक्र होने के दीर्घकालिक लाभ आपके जीवन और स्वास्थ्य को पूरी तरह से बदल सकते हैं।

व्यसनों पर काबू पाने में मदद मिल सकती है

बुरी आदतें आपके जीवन को अस्त-व्यस्त कर सकती हैं लेकिन व्यसन आपके जीवन को नष्ट और पटरी से लागत औसत उतार सकते हैं। व्यसन आमतौर पर कुछ आदतों या लक्षणों के बढ़ने के कारण होते हैं। व्यसनों पर विजय पाना बहुत कठिन है। किसी भी लत को दूर करने के लिए आपको इच्छा शक्ति, अनुशासन और समर्पण की आवश्यकता होती है। इन सभी गुणों और आदतों को ध्यान द्वारा विकसित किया जा सकता है। व्यसनों पर काबू पाने की यात्रा में ध्यान आपकी बहुत मदद करेगा।

स्व जागरूकता

मेडिटेशन और माइंडफुलनेस का सबसे बड़ा फायदा लागत औसत आत्म जागरूकता है। ध्यान की सहायता से आप एक निश्चित अवस्था तक पहुँच सकते हैं जहाँ आप आत्म-जागरूक हो जाते हैं। आत्म-जागरूकता को जगाना कोई आसान काम नहीं है, लेकिन एक बार जब आप इस स्तर पर पहुंच जाते हैं तो जीवन में बहुत सी चीजें आपके लिए आसान हो जाती हैं। निर्णय लेने से लेकर जीवन में सही रास्ते चुनने तक आपके लिए सब कुछ आसान हो जाएगा। लेकिन अपने आप को और अपनी चेतना को खोजने के लिए आपको नियमित रूप से ध्यान का अभ्यास करने और इसे एक जीवन शैली में बदलने की आवश्यकता है।

सिंचाई सब्सिडी : किसानों को डिग्गी निर्माण पर 3.40 लाख रुपए, खत्म होगी सिंचाई की समस्या

सिंचाई सब्सिडी : किसानों को डिग्गी निर्माण पर 3.40 लाख रुपए, खत्म होगी सिंचाई की समस्या

नहर का पानी इकट्ठा करने के लिए डिग्गी निर्माण पर सरकार दे रही है अनुदान

पिछले कुछ दशकों से देश के कई राज्य में भूमिगत जल के लगातार दोहन के कारण जल स्तर नीचे चला गया है। लगातार गिरते भूजल स्तर के संकट का सामना मध्यप्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान जैसे कृषि प्रधान राज्य करते नजर आ रहे है। जिनमें से राजस्थान राज्य का तो वर्तमान समय में ऐसे हाल है कि खेती के लिए पर्याप्त जल भी नहीं मिल रहा है। जिससे किसानों की फसल उत्पादन पर असर पड़ रहा है। राज्य में फसल उत्पादन औसत में हर साल गिरवाट आ रही है। कृषि के क्षेत्र में लगातार आ रही सिंचाई की नई पेरशानीयों को देखते हुए किसान खेती छोड़ने के लिए मजबूर हो रहे है। परिणाम स्वरूप राजस्थान की ज्यादातर जमीन बंजर और रेगिस्तान के अधीन हो चुकी है। राज्य की इन सभी समस्याओं को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने किसानों से खेती की पद्धति में बदलाव करने की अपील की है। और कृषि में भूमिगत जल के दोहन को कम करने एवं कम पानी से ज्यादा उत्पादन हासिल करने के लिए मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना चला रही हैं। किसान इस योजना के तहत सिंचाई के लिए नहर का पानी इकट्ठा करने के लिए डिग्गी निर्माण करा सकते है। इसके लिए राज्य सरकार किसानों को योजना के अंतर्गत तय प्रावधान के अनुसार 85 प्रतिशत तक सब्सिडी या अधिकतम 3.40 लाख रुपए की आर्थिक मदद देगी। इससे किसानों की फसलों को पानी उपलब्ध होगा और जल का संचय से भू-जल स्तर को सुधारने में भी बढ़ावा मिल सकता है। ट्रैक्टगुरु के इस लेख के माध्यम से योजना का लाभ उठाने की पूरी प्रक्रिया की जानकारी दी जा रही है।

डिग्गी निर्माण पर मिलेगी अधिकतम 85 प्रतिशत तक सब्सिडी

बता दें कि राज्य में रबी सीजन फसलों की बुवाई चालू हो चुकी हैं। रबी फसलों में सिंचाई को लेकर किसानों के सामने किसी प्रकार की कोई जलसंकट समस्या न आए और किसानों को फसल की सिंचाई के लिए भरपूर पानी मिले। इसके लिए राज्य सरकार किसानों को डिग्गी बनाने के लिए प्रोत्साहित कर रही है। राजस्थान सरकार मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत डिग्गी निर्माण लागत की अधिकतम 85 फीसदी राशि किसानों को सब्सिडी के रूप में देगी। निर्धारित नियमों के अनुसार लघु व सीमांत किसानों को लागत का 85 फीसदी या 3.40 लाख रुपये (जो भी राशि कम हो ) दी जाएगी। वहीं अन्य किसानों को लागत का 75 फीसदी या 3 लाख रुपये (जो भी राशि कम हो ) दी जाएगी। राजस्थान सरकार अपनी इस योजना में 40 प्रतिशत लघु एवं सीमांत किसानों को शामिल करेगी और उन्हें 10 प्रतिशत अतिरिक्त अनुदान भी दे सकती है।

किसान के पास न्यूनतम 0.5 हेक्टेयर सिंचित भूमि होना जरूरी

बता दें कि फसलों के अच्छे उत्पादन के लिए पानी बहुत महत्वपूर्ण है, क्योंकि समय पर फसलों की सिंचाई से फसलों का उत्पादन अच्छा होता है। ऐसे में किसान इस योजना के तहत नहरी इलाके में डिग्गी निर्माण के बाद नहर का पानी इकट्ठा कर सकते है। इकट्ठा किए हुए पानी से फसलों की सिंचाई कर सकते है। राज्य सरकार ने इसके लिए कुछ पात्रता निर्धारित की है। इस योजना के निर्धारित पात्रता के अनुसार योजना का लाभ केवल वहीं किसान ले सकता है, जिनके पास न्यूनतम 0.5 हेक्टेयर सिंचित हो। इसके अतिरिक्त किसानों को डिग्गी बनाने के बाद उसमें सिंचाई के लिए स्प्रिंकलर, ड्रिप, माइक्रो स्प्रिंकलर सयंत्र स्थापित करना होगा। जिसके बाद ही सरकार की तरफ से किसानों को डिग्गी निर्माण के लिए निर्धारित सब्सिडी का लाभ मिल पाएंगा।

किसान ऐसे जुड़ सकते हैं मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना से

राजस्थान के किसान डिग्गी निर्माण के पर मिलने वाली सब्सिडी का लाभ उठाने के लिए किसान को पहले योजना से जुड़ना होगा। योजना में जुड़ने यानि आवेदन करने के बाद ही लागत औसत सब्सिडी का लाभ प्राप्त कर सकते है। राजस्थान सरकार की मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना से जुड़ने के लिए ​किसान अपने नजदीकी जिले के कृषि विभाग के कार्यालय में जाकर संपर्क कर सकते हैं। इसके अलावा इच्छुक किसान राजस्थान सरकार की आधिकारिक बेवसाइट राजकिसान साथी पोर्टल पर ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं। एप्लीकेशन फॉर्म भरते समय किसान को आवश्यक रूप से अपना आधार नंबर दर्ज करना होगा। इसके अलावा फोटो के साथ ही राजस्व अभिलेखों की स्कैन कॉपी देनी होगी। वहीं, अनुसूचित जाति, जनजाति के किसानों को एप्लीकेशन फॉर्म के साथ स्वयं का आधार कार्ड की स्कैन कॉपी भी देनी होगी। वहीं इस योजना की विस्तृत जानकारी किसान अपने नजदीकी कृषि कार्यालय से प्राप्त कर सकते हैं।

इन जिलों के किसानों के लिए ही कार्यक्रम

राजस्थान सरकार ने मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के अंर्तगत डिग्री निर्माण के लिए सब्सिडी देने की योजना पूरे प्रदेश के लिए लागू नहीं किया हैं। पत्रकारों की जानकारी के अनुसार राज्य सरकार ने इस योजना को केवल नहरी इलाके वाले जिलों में लागू किया है। जिनमें फिलहाल श्रीगंगानगर, हनुमानगढ़, जैसलमैर और बीकानेर जैसे जिलों को शामिल किया गया हैं। इन जिलों के किसान योजना में आवेदन कर डिग्गी का निर्माण करवा सकते हैं, ताकि जब नहर से पानी छोड़ा जाए तो अतिरिक्त पानी को इकट्ठा करके सिंचाई के काम में लिया जा सके। सरकार की इस योजना से इन जिलों के किसानों को अकसर परेशान करने वाली जल की समस्या खड़ी नहीं होगी। वहीं, समय पर फसल की सिंचाई करके किसान भी आसानी से बेहतर उत्पादन ले पाएंगे।

डिग्गी निर्माण पर 387 करोड़ रुपए का किया जा चुका है भुगतान

पत्रकारों द्वारा जारी रिपोर्ट्स के मुताबिक राजस्थान की इस योजना के तहत निर्धारित जिलों में से अब तक 9, 596 किसान लाभ उठा चुके है। इन किसानों को मुख्यमंत्री कृषि साथी योजना के तहत सिंचाई का पानी इकट्ठा करने के लिए डिग्गी निर्माण पर 387 करोड़ रुपये का भुगतान भी किया जा चुका है। वहीं राजस्थान सूक्ष्म सिंचाई योजना के तहत ड्रिप एवं स्प्रिंकलर सिंचाई उपकरणों पर आने वाले 3 सालों में 15 हजार किसानों को 450 करोड़ रुपये का अनुदान देने की योजना सरकार बना रही है। वहीं, मिली जानकारी के अनुसार राजस्थान सरकार की इस योजना का सर्वाधिक लाभ बीकानेर जिला के किसानों ने उठाया है। यहां कई किसानों ने मुख्यमंत्री कृषक साथी योजना के तहत आवेदन कर डिग्गी निर्माण के लिए 3 लाख रुपए तक की सब्सिडी राशि प्राप्त कर चुके है। जिनमें ग्राम खेरा निवासी किसान ओमाराम प्रजापत भी शामिल है।

ट्रैक्टरगुरु आपको अपडेट रखने के लिए हर माह कुबोटा ट्रैक्टर सोनालिका ट्रैक्टर कंपनियों सहित अन्य ट्रैक्टर कंपनियों की मासिक सेल्स रिपोर्ट प्रकाशित करता है। ट्रैक्टर्स सेल्स रिपोर्ट में ट्रैक्टर की थोक व खुदरा बिक्री की राज्यवार, जिलेवार, एचपी के अनुसार जानकारी दी जाती है। साथ ही ट्रैक्टरगुरु आपको सेल्स रिपोर्ट की मासिक सदस्यता भी प्रदान करता है। अगर आप मासिक सदस्यता प्राप्त करना चाहते हैं तो हमसे संपर्क करें।

यूक्रेन के खिलाफ जंग में रूस ने अब तक 82 अरब खर्चे

नौ महीनों से ज्यादा का वक्त हो चुका है लेकिन, रूस और यूक्रेन के बीच जंग खत्म होने का नाम नहीं ले रही है। इस बीच फोब्र्स की रिपोर्ट सामने आई है, जिसमें अनुमान लगाया गया है कि रूस ने इस साल फरवरी में कीव पर आक्रमण शुरू करने के बाद से पिछले नौ महीनों में अपने वार्षिक बजट का एक चौथाई खर्च कर लिया है। रूस अब तक 82 अरब डॉलर खर्च कर चुका है। इतना ही नहीं रूस को यूक्रेन में युद्ध के लिए हर महीने कम से कम 10 अरब डॉलर की जरूरत पड़ रही है। पिछले साल रूस का बजट राजस्व 340 बिलियन यूरो था, जिसका अर्थ है कि मास्को ने युद्ध पर अपने वार्षिक बजट का एक चौथाई खर्च कर दिया है। इसमें केवल रूस के सैन्य अभियान की प्रत्यक्ष लागत शामिल है, जबकि रक्षा खर्च या पश्चिमी देशों द्वारा प्रतिबंधों के कारण होने वाले आर्थिक नुकसान शामिल नहीं हैं।

तेल और गैस के निर्यात से रूस का संघीय बजट राजस्व कम हो रहा है, क्योंकि रूस ने यूक्रेन पर युद्ध के बाद अधिकांश यूरोपीय गैस बाजार में अपनी पकड़ खो दी है। रूस को यूक्रेन में युद्ध के लिए हर महीने कम से कम 10 अरब डॉलर की जरूरत पड़ रही है। इस खर्चे में यूक्रेन में जंग लड़ रहे रूसी सैनिकों के लिए वेतन, मृतकों और घायलों के लिए मुआवजा, हथियार और गोला-बारूद खरीदना या बनाना और खोए हुए उपकरणों को बदलना शामिल है। युद्ध के आखिरी महीने में मृतकों और घायलों के लिए मुआवजे की राशि 3.5 अरब डॉलर से अधिक आंकी गई थी। इसने गणना की कि रूस प्रति दिन 10,000 से 50,000 गोले का उपयोग करता है, सोवियत-कैलिबर शेल की औसत कीमत लगभग 1,000 डॉलर है।

How to Make an Audiobook? – 10 Steps

वर्ष 2030 तक, ऑडियोबुक बाजार का मूल्य $35 बिलियन या उससे अधिक होने का अनुमान है। एक ऑडियोबुक बनाने का तरीका जानना, कथावाचकों को कहां देखना है, पीएफएच जैसे शब्द, और बहुत कुछ आपको इस बढ़ते बाजार में पूंजी लगाने और अपने क्षितिज और अपनी कहानी की राजस्व धाराओं को व्यापक बनाने के लिए मार्गदर्शन करेंगे। ऑडियोबुक बनाने के तरीके के बारे में यहां 10 चरण दिए गए हैं।

How to Make an Audiobook? – 10 Steps

ऑडियोबुक रिकॉर्डिंग के लिए तैयारी करें

यदि आपने अपनी पांडुलिपि का संपादन पूरा कर लिया है, तो आगे की तैयारी एक आकर्षक ऑडियो संस्करण सुनिश्चित करेगी। कुछ तरीके जिनसे आप अपनी पांडुलिपि को चिह्नित कर सकते हैं, विराम या सांसों को इंगित करने के लिए एक अंकन जोड़ना, वर्णों की एक संक्षिप्त विशेषता बनाना, कठिन शब्दों के आगे ध्वन्यात्मक उच्चारण सम्मिलित करना, और अन्य ध्वनि-अभिनय नोट शामिल हैं।

प्रो कथन बनाम DIY पेशेवरों और विपक्ष

अब आपको यह तय करने की आवश्यकता है कि आप एक कथावाचक को नियुक्त करने जा रहे हैं या इसे स्वयं करें। पेशेवरों के साथ काम करने के पक्ष और विपक्ष दोनों हैं। कुछ लाभ: आपको ऑडिशन कलाकारों का काम, और विशिष्ट भुगतान मॉडल मिलते हैं, और आप प्रो-ग्रेड ऑडियो बनाने के तनाव को दूर कर सकते हैं। एक समर्थक कथावाचक को काम पर रखने के नुकसान: DIY से महंगा, आपको रॉयल्टी साझा करनी पड़ सकती है, और आप फिर से रिकॉर्डिंग नहीं कर सकते। दूसरी ओर, DIY के कुछ पेशेवरों में लागत बचत, अतिरिक्त संपादकीय अंतर्दृष्टि, आपको रॉयल्टी और अपने फैनबेस से जुड़ाव रखने के लिए मिलता है। नुकसान: यदि आप ऑडियो उत्पादन के बारे में नहीं जानते हैं, तो आपके लिए आवश्यक पेशेवर ध्वनि प्राप्त करना कठिन हो सकता है; आपकी रिकॉर्डिंग में चालाकी और अधिक की कमी होगी।

मुख्य ऑडियोबुक प्लेटफॉर्म को जानें

कुछ लोकप्रिय और महत्वपूर्ण ऑडियोबुक वितरण सेवाएं एसीएक्स, फाइंडअवे वॉयस, ऑथर्स रिपब्लिक और कोबो राइटिंग लाइफ हैं। इनमें से प्रत्येक के अपने फायदे और दिशानिर्देश हैं जिन्हें आप जांच सकते हैं। मूल्य के रूप में निर्णय लेते समय प्रत्येक सेवा की जांच करना सुनिश्चित करें एक विशेषता है जो हमेशा बदलती रहती है।

बजट उत्पादन लागत

पेशेवर ऑडियोबुक में कथावाचकों के साथ समझौते होते हैं और इसमें यह शामिल होगा कि आप अपने भुगतान की संरचना कैसे करने जा रहे हैं। रॉयल्टी शेयर शेयर वह अवधि है जिसके लिए आप अनुबंध के आधार पर रॉयल्टी विभाजित करेंगे। एक बार अवधि समाप्त हो जाने पर आप बाद की सभी रॉयल्टी रख सकते हैं। इस तरह, आपको पूरे कथावाचक के श्रम का अग्रिम भुगतान नहीं करना पड़ेगा। आप ऑडियोबुक प्रोडक्शन के लिए बजट बना सकते हैं। औसत पीएफएच कथन कीमतों पर कुल परियोजना लागत की गणना करें। ऑडिशन वाले वॉयस आर्टिस्ट की पीएफएच दरों के लिए एक स्प्रेडशीट रखें। प्रत्याशित बिक्री और रॉयल्टी को मापने का कुछ गणित करें। और, संविदात्मक वर्षों में आपको अपने कथावाचक के साथ कितना साझा करने की आवश्यकता है।? किस भुगतान विधि में सबसे अधिक ROI (निवेश पर प्रतिफल) होगा?

एक नैरेटर किराए पर लें

एक क्षेत्र के रूप में ऑडियोबुक उत्पादन के बारे में आपके ज्ञान के निर्माण के लिए उपर्युक्त कदम फायदेमंद हैं। अपनी पुस्तक के पहलुओं की एक सूची बनाएं जो टोन के मामले में प्रभावी होंगे, जैसे उच्चारण और शैली। यदि एक मजबूत क्षेत्रीय पहलू है या यदि आपको किसी विशिष्ट समय या स्थान से आवाजों को पकड़ने के लिए आवाज कलाकारों की आवश्यकता है तो उच्चारण पर ध्यान दें। अपनी शैली की ऑडियो पुस्तकों को सुनने की कोशिश करें और समझें कि उस शैली के पाठकों से आमतौर पर किस तरह की आवाज़ें इस्तेमाल की जाती हैं या उनसे अपेक्षा की जाती है।

रिकॉर्ड

चाहे आप इसे स्वयं कर रहे हों या किसी से संपर्क कर रहे हों, आपके पास अपनी रिकॉर्डिंग में एक पेशेवर पॉलिश होनी चाहिए। यदि आप निम्न-गुणवत्ता वाले रिकॉर्डिंग उपकरण, ध्वनिक रूप से समस्याग्रस्त स्थान और शोर रिकॉर्डिंग वातावरण का उपयोग कर रहे हैं, तो आप इसे प्राप्त करने में विफल रहेंगे। यदि आप DIY का चयन कर रहे हैं तो न्यूनतम आवश्यकताएं: एक अच्छा कंडेनसर माइक्रोफोन, इसके लिए एक पॉप फिल्टर, आपके उपकरणों में रिकॉर्डिंग के लिए एक ऑडियो इंटरफ़ेस, साउंडप्रूफिंग और डैम्पिंग के कुछ रूप और रिकॉर्डिंग सॉफ़्टवेयर हैं।

आज की प्रमुख कहानियां मिस न करें

एक ऑडियो इंजीनियर प्राप्त करें

यदि आप अपना ऑडियोबुक DIY बनाने की योजना नहीं बना रहे हैं तो आप इस सेक्शन को छोड़ सकते हैं। यदि आप ऐसा करने की योजना बना रहे हैं, तो आपको अपने ऑडियो को साफ करने के लिए ऑडियो इंजीनियर की मदद लेनी पड़ सकती है। चूंकि वे एक विशेषज्ञ हैं, वे रिकॉर्डिंग में मिनट के अंतर को पहचान सकते हैं और पेशेवर ध्वनि प्राप्त करने में आपकी सहायता कर सकते हैं। लागत औसत ओवर-फ़िल्टर्ड आवाज़ें उतनी ही विचलित करने वाली होती हैं जितनी कच्ची रिकॉर्डिंग। आपको चपटी, निचोड़ी हुई या मफल आवाज़ से भी बचने की ज़रूरत है। किसी ऐसे व्यक्ति को खोजें जो Fiverr या People Per Hour जैसी साइटों पर आपके ऑडियो को साफ़ कर सके।

अपना कवर आर्ट बनाएं

आपको ऑडियो फ़ाइल प्रारूप के लिए अपने पसंदीदा प्लेटफ़ॉर्म के दिशा-निर्देशों की जाँच करनी चाहिए। एक बार यह हो जाने के बाद आपको कवर आर्ट के साथ आगे बढ़ना होगा। आपका कवर आर्ट आकर्षक होना चाहिए और इसमें कहानी का सार होना चाहिए। फ़ाइल प्रारूप, आकार और रिज़ॉल्यूशन के संदर्भ में कला को कवर करने के लिए प्रत्येक प्लेटफ़ॉर्म की एक विशिष्ट आवश्यकता होती है।

अपनी ऑडियोबुक अपलोड करें

जब आप पुस्तक और आवरण कला के अपने वर्णित संस्करण के साथ तैयार हो जाते हैं, तो अगली चीज़ जो आपको करनी है वह इसे अपलोड करना है। प्लेटफार्मों की आवश्यकताओं की जाँच करें। उदाहरण के लिए, एसीएक्स की कुछ आवश्यकताएं एक परिचय, अनुभाग, क्रेडिट, एक कवर छवि और खुदरा ऑडियो नमूना हैं।

विवरण, श्रेणियाँ और प्रचार

यह जानने के लिए श्रेणियां देखें कि आपके द्वारा चुना गया प्लेटफ़ॉर्म अपनी सामग्री को कैसे व्यवस्थित करता है। उदाहरण के लिए, ऑडिबल में 'ऑडिबल लेटिनो' है जो स्पैनिश-भाषा ऑडियोबुक्स के लिए समर्पित है। एक बार जब ऑडियोबुक अपलोड हो जाती है, तो आपकी श्रेणियां और कीवर्ड निर्दिष्ट हो जाते हैं, और आपकी ऑडियोबुक लाइव हो जाती है, इसे अनूठे रचनात्मक तरीकों से प्रचारित करें। ऑडियो संस्करण को बढ़ावा देने के लिए आप ये काम कर सकते हैं। आरंभ करने के लिए, अपने ऑडियोबुक के कवर आर्ट को एक ऑडियो नमूने के साथ साझा करें। आप साउंडक्लाउड और यूट्यूब जैसे ऑडियो-केंद्रित प्लेटफॉर्म के साथ प्रयोग कर सकते हैं। प्रतियोगिताएं चलाने या प्रोमो देने का प्रयास करें। इसके अलावा, आप लोकप्रिय पुस्तक पॉडकास्ट तक पहुंच सकते हैं।

रेटिंग: 4.43
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 197
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *