शेयर बाजार की मूल बातें

किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं?

किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं?

किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं?

एक बार फिर स्वागत हमारे चैनल टेक्निकल News में आज के वीडियो में हम बात करेंगे क्रिप्टोकरेंसी के बारे में तो वीडियो को स्केप बिल्कुल मत कीजिए चलो करते वीडियो स्टार्ट बिन किसी देरी के

क्रिप्टोकरेंसी रॉकेट बनने से पहले खरीद लें ये ऑल्टकॉइंस, कमाएंगे खूब पैसा

आज बहुत सारी क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं। इनमें बहुत से ऑल्टकॉइंस भी हैं। ऐसे में यह तय करना मुश्किल भरा फैसला हो सकता है कि किस क्रिप्टो में निवेश करें। आप कंफ्यूज हो सकते हैं कि किस कॉइन में निवेश करना चाहिए और किसमें नहीं। इसलिए हम यहां वर्तमान में मौजूद टॉप 10 ऑल्टकॉइंस की लिस्ट लेकर आए हैं, जो 2022 में निवेश के लिए बेस्ट हैं। अहम बात यह है किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? कि इन क्रिप्टो के आगे काफी ऊपर जाने की संभावना है। इसलिए इससे पहले कि ये आपके खरीदने के स्तर से बाहर हो जाएं, इन्हें पहले ही खरीद लें। जानते हैं इन क्रिप्टो टोकन्स की डिटेल।

कार्डानो (एडीए) एडीए इस लिस्ट में पहला है। कार्डानो को एथेरियम और सोलाना के समान इस सेगमेंट में सबसे विश्वसनीय तकनीकों में से एक के लिए पहचाना जाता है। बड़ी बात यह है कि कार्डानो के कंपनियों और अफ्रीका जैसी सरकारों के साथ मजबूत संबंध हैं। किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? ये एक विश्वसनीय टोकन है।

स्ट्रीमकॉइन (एसटीआरएम) स्ट्रीमकॉइन बाजार में नई आशाजनक क्रिप्टोकरेंसी में से एक मानी जाती है। स्ट्रीमकॉइन लाइव स्ट्रीमर्स, कंटेंट क्रिएटर्स और दर्शकों के लिए समान रूप से एक ब्लॉकचेन इकोसिस्टम डेवलप कर रही है। इस ईकोसिस्टम में स्ट्रीमकॉइन का अपना एनएफटी मार्केटप्लेस है। इससे आप अपने खुद के वीडियो को एनएफटी में ढाल सकते हैं।

डेसेंट्रलैंड (माना) माना मेटावर्स से संबंधित सबसे लोकप्रिय ऑल्टकॉइन है। इसे लगातार अपडेट प्रदान करने के लिए जाना जाता है। साथ ही यह अन्य प्रोजेक्ट्स के साथ रेगुलर पार्टनरशिप की घोषणा करता है। हाल ही में जेपी मॉर्गन के डिसेंट्रलैंड में निवेश की एक खबर भी आई है। ये क्रिप्टो समुदाय के लिए काफी अहम है।

सैंडबॉक्स (सैंड) सैंड 2022 में मेटावर्स स्पेस में निवेश करने के लिए एक बेहतरीन क्रिप्टोकरेंसी है। डेसेंट्रालैंड के साथ, सैंडबॉक्स मेटावर्स में एक और प्रमुख नाम है। इसके आगे अच्छा परफॉर्मेंस करने की उम्मीद है।

एक्सआरपी एक्सआरपी एक ऐसा टोकन है जो कम लेनदेन शुल्क और तेजी से ट्रांजेक्शन की सर्विस प्रोवाइड करता है। एक्सआरपी जारी करने वाली कंपनी रिपल है। इसने अपनी डिजिटल करेंसी बनाने में कई देशों के सबसे अधिक मांग वाले भागीदार के रूप में अपनी पहचान बना ली है।

शीबा इनु शीबा इनु को फ्यूचर के लिहाज से सबसे अहम माना जाता है। ये कॉइन दुनिया भर में सोशल सपोर्ट के लिए बहुत सारे कदम उठा रहा है। हाल ही में शिबा इनु मेटावर्स (आधिकारिक नाम नहीं) की घोषणा की गयी है। यहां लोग शीबालैंड में भूमि खरीद/नीलामी करने में सक्षम होंगे।

डॉगकॉइन हाल ही में, डॉगकोइन के ट्विटर पर 3 मिलियन फॉलोअर्स हो गए। वर्तमान में यह बाजार में सबसे बड़ा मीम कॉइन है। शीबा इनु की तरह यह भी फ्यूचर का खास कॉइन है। बाजार में टॉप क्रिप्टोकरेंसी (बीटीसी, ईटीएच आदि) की तुलना में इसका ट्रांजेक्शन चार्ज कम है।

वीडियो अच्छी लगी हैं तो यदि हमारी वीडियो यूट्यूब पर देख है तो चैनल को subcribe like and share बैल आइकॉन हो हिट करे यदि वीडियो को Facebook, Atoplay या dailymotion पर देख रहे तो चैनल को Follow like and share बैल आइकॉन हो हिट करे थैंक यू सो मच

#2022 #shiba #shibainU #shibainucoinburn #shibainucoinprediction #shibainucoin #shibacoinburn #shibainucoinburntoday #'shibacoinburnnewstoday #https #Robinhood #Kraken

#ElonMuskshibainu #ShibainuRobinhood bhhhhhhhhhhh #Shiba_inu_coin_news_today #shibainuburning #newexachngelisting #listing on Robin hood #lovelvinu #lovelvinucoinnewstodavv O किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? #lovelyinu #lovelyinucoinnewstoday #lovelylnucoinnewstoday #wazirxtrading #safemoon #safemars #freecoin #moonshotcoin #shibainucoin #shibainucoin #shibainucoinnewstoday #shibainurobinhood Shiba inu coin news today #shibainucoin shibainutoken, Shiba inu coin whales, Shiba inu whales, #shibainurobinhood #CryptoCurrency #SHIB #Shibalnu #BinanceSmartChain #BinanceFinance #BlockChainFinance #VenusToken #VenusCoin #Venus DeFi #VenusXVS #lconBlockchain #lconICX #lconCoin #lconToken #lconBlockchainSouth Koreaa #ThePeoplesCoin #DogeCoin #ElonMusk #Doge #dogcoin #VeChain #Ecosystem #SupplyChain #LogisticsChain #DigitalYuan #Bitcoin #CoinBaseListing #CoinbaseGlobalI P0 # Logistics #VeChain Partnerships #VeChainEcosystem #VeChainPartnerships #Saleforce #SupplyChain #Amazon #DHL #VTHOGas #BMW #RENAULT #WallmartChina #CryptoDotCom #HODL #Bitcoin #Crypto #CryptoCom #CRO #CROCoin #CROToken #Visa #USDC किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? #Bitcoin #Cryptocom #Cryptodotcom #Decentralized #DecentralizedFinance #Finance #Difi #NFT

#Stablecoin #Blockchain #Ethereum #Solana #Cosmos #Cardano #Polkadot #Theta #Enjin #VeChain #XRP #RIPPLE #kAVA #CryptoCurrency # SuperCharger #Staking #Coins #AltCoin #AltCoins #Gold #DigitalGold #DigitalAssets #LiteCoin #FileCoin #VeThor #Binance #MoneyLending #Cryptolending #Coinbase # FutureCoins #DigitalCoins #Satoshi #Hodl #Hodler #Coin Holder #TheMoon #CryptoExchange #Wealth #[email protected] #CryptoChannel #Rockets #Watching Rockets #Neptune #Mercury #Mars #Venus #Pluto #Saturn #Jupiter #THEMOON #BuckleUP #LiftOFF #LetsGO

Crypto Crash: भारतीय निवेशकों के लिए भी घाटे का सौदा है

Crypto Crash: भारतीय निवेशकों के लिए भी घाटे का सौदा है

क्रिप्टो करेंसी को लेकर कई तरह की बातें कहीं गई थी। डिजिटल मुद्रा को बहुत से लोगों ने अंतरराष्ट्रीय लेन-देन के लिए डॉलर का विकल्प मान लिया था। यह माना जा रहा था कि क्रिप्टो करेंसी वैश्विक मुद्रा व्यवस्था में डॉलर का विकल्प बनेगी किंतु अब क्रिप्टो करेंसी को लेकर कई तरह की कठिनाइयां सामने आ रही हैं। कुछ दिनों पहले ही क्रिप्टो करेंसी के निवेशकर्ताओं को एक बड़े प्लेटफार्म पर आर्थिक नुकसान झेलना पड़ा है। अग्रणी क्रिप्टो करेंसी प्लेटफॉर्म Crypto.com ने पिछले हफ्ते स्वीकार किया कि इसके प्लेटफॉर्म पर 483 उपयोगकर्ताओं को दो-कारक (2FA) प्रमाणीकरण में गड़बड़ी के कारण विभिन्न डिजिटल सिक्कों में लगभग 34 मिलियन डॉलर का नुकसान हुआ।

क्रिप्टो करेंसी में निवेशकर्ताओं को हुआ आर्थिक नुकसान

क्रिप्टो करेंसी के लेन-देन में सुरक्षा की दृष्टि से 2FA प्रमाणीकरण आवश्यक है। लेकिन पिछले सप्ताह कुछ लेनदेन बिना 2FA प्रमाणीकरण के हुए, जिसके बाद कंपनी ने एहतियातन जांच होने तक सभी लेन-देन स्थगित कर दिए, जिससे फ्रॉड या अन्य किसी प्रकार की अनियमितता न हो। उपरोक्त घटना के बाद क्रिप्टो करेंसी को लेकर लोगों में संशय का भाव जन्म ले रहा था, इसी बीच क्रिप्टो करेंसी के अनधिकृत धन निकासी के कुछ दिनों बाद ही कई क्रिप्टो करेंसी यूजर को अपनी ID लॉगिन करने में दिक्कत आने लगी। इस संदर्भ में हजारों यूजर सोशल मीडिया पर अपनी शिकायत दर्ज करवा रहे थे। मामला इतना बढ़ गया कि स्वयं कंपनी के CEO Kris Marszalek को ट्विटर के माध्यम से आकर सफाई देनी पड़ी और लोगों को बताना पड़ा कि वह किस प्रकार अपने अकाउंट को दोबारा प्राप्त कर सकते हैं।

ट्विटर पर ट्वीट की श्रृंखला के माध्यम से उन्होंने एक ट्वीट थ्रेड में जवाब दिया, “अगर आप इस सप्ताह एक्सेस रीसेट के बाद हमारे ऐप में वापस नहीं आ सकते हैं, तो 95/100 मामलों में आप लॉगिन करने के लिए गलत ईमेल का उपयोग कर रहे हैं।” Kris Marszalek ने बीते शनिवार को ट्वीट करते हुए कहा, “हम एक ही फोन नंबर के साथ डुप्लीकेट खातों की अनुमति नहीं देते हैं, इसलिए यदि आप गलत ईमेल का उपयोग कर रहे हैं तो आप फंस जाएंगे।” उन्होंने कहा “हम इन मामलों में उपयोगकर्ताओं की एक-एक करके मदद कर रहे हैं, लेकिन हमारे मंच के पैमाने को देखते हुए इसमें समय लगता है।”

क्रिप्टो करेंसी की किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? विश्वसनीयता है प्रश्न

एक रिपोर्ट के अनुसार, भारत समेत दुनियाभर में क्रिप्टो का प्रचलन बढ़ता जा रहा है। हालांकि, इस समय दुनिया में सबसे ज्यादा क्रिप्टो निवेश भारत में मौजूद हैं। एक रिपोर्ट में बताया गया कि देश में क्रिप्टोकरेंसी में निवेश किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? करने वालों की संख्या करीब 10.7 करोड़ हो चुकी है और 2030 तक क्रिप्टोकरेंसी में भारतीयों द्वारा निवेश बढ़कर 24.1 करोड़ डॉलर तक पहुंच सकता है। बताते चलें कि एक अन्य रिपोर्ट के अनुसार, क्रिप्टो के लिए वर्ष 2022 किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? अब तक उचित प्रतीत नहीं हो रहा है क्योंकि क्रिप्टो में गिरावट के ट्रेंड को जारी रखते हुए बिटकॉइन की कीमत बीते शनिवार को 9.4% की गिरावट के साथ 36,436.88 डॉलर हो गई है। वहीं, इस साल की शुरुआत से ही इसमें 14 फीसदी की गिरावट आ चुकी है।

बता दें कि क्रिप्टो करेंसी के संचालन में आम लोगों को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। लोगों ने निवेश तो कर दिया है लेकिन निवेशकर्ता कभी 2FA का पालन नहीं कर पा रहे तो कभी लॉगिन में दिक्कत आ रही है। इस कारण वित्तीय हानि भी हो रही है। इसके साथ ही क्रिप्टो करेंसी और उसे संचालित करने वाली कंपनियों की छवि खराब हो रही है। ऐसे में, आर्थिक जोखिम ने डिजिटल मुद्रा को डॉलर की प्रतिस्पर्धा में बहुत कमजोर कर रखा है और इसके जल्द सुधरने की गुंजाइश नहीं है। महत्वपूर्ण बात यह है कि क्रिप्टो करेंसी की विश्वसनीयता तब तक पूरी तरह बहाल नहीं हो सकती जब तक संप्रभु सरकारों द्वारा डिजिटल लेन-देन में सुरक्षात्मक मानदंड सुनिश्चित किए जाने के साथ-साथ इसका संचालन शुरू नहीं किया जाता।

क्रिप्टोकंरेसी क्या है? प्रकार और कैसे काम करती है? Cryptocurrency kya hai

Cryptocurrency-kya-hai

Cryptocurrency kya hai: आज जब भी हम मार्केट में कुछ लेने या देने के लिए जाते हैं तो हमें नोट(रुपए) और सिक्के (पैसे) आदि की जरूरत पड़ती है।यह हमारे हाथ में, पर्स में होते हैं, इसे ही हम करंसी (मुद्रा) कहते हैं।

इसके अलावा एक और करेंसी होती है जिसे क्रिप्टोकरंसी कहते हैं जो डिजिटल ही उपलब्ध होती है भौतिक रूप से हमारे हाथ में नहीं होती है।आइए विस्तार से जानते है क्रिप्टोकंरेसी के बारे मे व यह करंसी किस तरह से उपयोग मे लायी जाती है।

Table of Contents

Cryptocurrency kya hai:

Crypto एक डिजिटल संपत्ति है जिसे एक्सचेंज के माध्यम के रूप में काम करने के लिए डिजाइन किया गया है। आमतौर पर यह क्रिप्टोकरंसी केंद्रीय प्राधिकरण द्वारा जारी नहीं किया जाती है,मतलब किसी भी देश या सरकार का इस पर कोई नियंत्रण नहीं है। शुरुआत में इस करेंसी को अवैध कहां गया। पर बाद में इसकी लोकप्रियता को देखकर कई देशों ने इसे लीगल(legal) तो कई देश इस कंरेसी के विपक्ष(opposite)में खड़े हैं।

Decentralized सिस्टम द्वारा संचालित Cryptography की मदद से प्रत्येक लेन-देन का डिजिटल सिग्नेचर द्वारा वेरिफिकेशन और रिकॉर्ड रखा जाता है।क्रिप्टोकंरेसी Blockchain Technology पर आधारित एक वर्चुअल करंसी है,Cryptography द्वारा सुरक्षित है,अत:इसकी नकल या काॅपी करना मुमकिन नही है।

क्रिप्टोकंरेसी की वैल्यू:

क्रिप्टोकरेंसी फिजिकल करेंसी नहीं है। यह सिर्फ डिजिट(digit) के रूप मे ऑनलाइन ही रहती है।
क्रिप्टो करेंसी हमारे हाथ और पर्स में रहने वाली मुद्रा नहीं है,न इसे तिजोरी या बैंक के लाॅकर मे रख सकते है,पर फिर भी इसकी कीमत(value) है। हम इसके द्वारा सामान खरीद सकते हैं, ट्रेडिंग(trading)कर सकते हैं, इन्वेस्ट कर सकते हैं।इसलिए इसे Digital मुद्रा, वर्चुअल मुद्रा और इलेक्ट्रॉनिक मुद्रा भी कहते है।

क्रिप्टो करेंसी की वैल्यू मार्केट में कभी भी स्थिर नहीं रहती है, उतार चढ़ाव आते रहते हैं। एक ही दिन में कई उतार-चढ़ाव देखने को मिल जाते हैं।कुछ टाॅप क्रिप्टोकंरसी की कीमत कभी-कभी रुपए से हजार गुना भी ज्यादा हो जाती है।

क्रिप्टोकंरेसी कैसे काम करती है:

क्रिप्टोकंरेसी Blockchain के माध्यम से काम करती है।पावरफुल कंम्प्यूटर द्वारा लेन-देन का रिकॉर्ड और निगरानी रखी जाती है,जिसे क्रिप्टोकंरेसी माइनिंग(minning) कहते है और माइनिंग करने वालो को माइनर्स(miners) कहते है।जब भी क्रिप्टोकंरेसी मे कोई ट्रांजेक्शन होता है तो उसकी पूरी डिटेल्स Blockchain मे रिकॉर्ड हो जाती है।ब्लाक की पूरी डिटेल्स को सुरक्षित रखने का काम माइनर्स का होता है।

माइनर्स हर ब्लाक के लिए उचित कोड (hash) निश्चित करते है। उचित कोड रखकर सुरक्षित किए हुए ब्लॉक को ब्लॉक चैन से जोड़ दिया जाता है। और आसपास के नेटवर्क मे उपस्थित कंप्यूटर में यह जानकारी वेरीफाई हो जाती है।इस पूरी प्रोसेस को consensus कहा जाता है।जब consensus की पूरी जांच हो जाती है तो सिक्योर करने वाले माइनर को क्रिप्टो काइन्स दिए जाते है।यह एक रिवार्ड होता है और इसे प्रूफ ऑफ वर्क कहा जाता है।

क्रिप्टोकंरेसी के प्रकार:

इस समय दुनिया में हजारों क्रिप्टोकरेंसी मार्केट में मौजूद है, पर हमें इसकी जानकारी नहीं। आइए नीचे कुछ टॉप क्रिप्टोकरंसी के बारे में जानते हैं।

Bitcoin(बिटकाइन):

बिटकॉइन आज दुनिया की सबसे सफल, डिजिटल क्रिप्टो करेंसी है। यह सबसे महंगी क्रिप्टोकरंसी है, जिसकी कीमत आसमान छू रही है। जिसने भी इसे कम कीमत में लिया है उसे आज मुनाफा ही मुनाफा मिल रहा है।इसे 2009 मे Santoshi Nakamoto ने बनाया।इसे सफल किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? बनाने मे भी काफी मेहनत करनी पड़ी। आज के समय मे एक बिटकॉइन खरीदने के लिए आपको 13 लाख रुपए से 15 लाख रुपए देने होगे।

Ethereum:

बिटकॉइन के बाद यह दुनिया की दूसरी पसंदीदा क्रिप्टोकंरेसी है।इस क्रिप्टोकंरेसी के टोकन को Ether भी कहा जाता है।इस करंसी के फाउंडर का नाम Vitalik Buterin है।इसे 2015 मे लांच किया गया।
बिटकॉइन की तरह यह भी ओपनसोर्स, डिसेन्ट्रर्लाइज्ड, ब्लाकचैन प्लेटफार्म है।हाल ही मे यह दो हिस्सो मे विभाजित हुआ, एक का नाम Etherem(ETH) और दूसरे भाग का नाम Etheriem Classic(ETC) है।

Litecoin(LTC):

यह October 2011 में Charles Lee के द्वारा बनाई हुई क्रिप्टोकंरेसी है।Litecoin के बहुत सारे फीचर्स बिटकॉइन से मिलते-जुलते है।बिटकॉइन के मुकाबले इसमे ट्रांजेक्शन जल्दी पूरे हो जाते है।

Dogecoin(Doge):

इसके Founder का नाम है Billy Markus है।आज Dogecoin करंसी की मार्केट रेट $197 मिलीयन से भी ज्यादा है।इसमे भी माइनिंग जल्दी पूरी हो जाती है।

Tether:

क्रिप्टो करेंसी मार्केट में Trther सबसे स्थिर मुद्रा है। जो मार्केट में स्थिर रह सकते हैं उनके लिए सबसे अच्छा विकल्प है।

Solana(SOL):

साल 2021 मे मिली बढत के साथ क्रिप्टो करेंसी की सूची में सोलाना तीसरे नंबर पर है।

Ripple(XRP):

Ripple एक रियल टाइम ग्रोस सेटलमेंट सिस्टम (RTGS) है। जो अपनी खुद की क्रिप्टो करेंसी चलाता है,जिसे Ripple(XRP) के नाम से जाना जाता है। यहां बहुत ही ज्यादा फेमस क्रिप्टो करेंसी है और लगभग इसकी मार्केट कैप 10 बिलियन डॉलर से भी ज्यादा है।

CryptoCurrency के फायदे:

अब चलते है और जानते है कुछ CryptoCurrency के फ़ायदों के बारे में:

  • Cryptocurrency में धोखे/खतरा होने के chances बहुत ही कम है।
  • यह सामान्य डिजिटल payment से ज्यादा सुरक्षित होते हैं।
  • इसमें transaction fees दूसरो के मुकाबले बहुत ही कम है।
  • इसमें अकाउंट/ब्लाक बहुत ही सुरक्षित हैं।

Cryptocurrency के नुकसान:

  • हर एक चीज के फायदे है तो नुकसान भी होते है।आइए CryptoCurrency के हानिकारक तथ्यो के बारे में जानते हैं।
  • Cryptocurrency में एक बार transaction पूर्ण हो जाने पर उसे reverse कर पाना असंभव होता है क्यूंकि इसमें वैसे कोई आप्शन ही नहीं होती है।
  • अगर आपके Wallet के ID खो जाती है तब वो हमेशा के लिए खो जाती है क्यूंकि इसे दुबारा प्राप्त करना संभव नहीं है। ऐसे में आपके जो भी पैसे आपके wallet में होते हैं वो सदा के लिए खो जाते हैं।
  • कुछ देशो मे यह अभी भी लीगल नही है।

मुझे पूर्ण आशा है की मैंने आप लोगों को क्रिप्टोकरेंसी क्या है? उनके प्रकार आदि के बारे में पूरी जानकारी दी और मैं आशा करती हूँ आप लोगों को Cryptocurrency के बारे में समझ आ गया होगा।इस महत्वपूर्ण जानकारी को सभी के साथ जरूर शेयर करे।धन्यवाद.

Cryptocurrency: निवेशकों को केंद्र सरकार देने जा रही है अच्छी खबर, क्रिप्‍टोकरेंसी को लेकर ये है नया प्लान

नई दिल्ली। क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) को लेकर पिछले एक साल से खूब चर्चा हो रही है। दुनियाभर में क्रिप्टो बाजार (Crypto Market) का जहां एक तरफ जबरदस्त बोलबाला है, और निवेशकों को भी डिजिटल करेंसी (Digital Currency) में ट्रेडिंग काफी पसंद आ रही है, तो वहीं, दूसरी तरफ भारतीय निवेशकों में असमंजस की स्थिति है। बता दें कि भारत में क्रिप्‍टोकरेंसी की वैधता को लेकर कोई निश्चितता ना होने से निवेशक पशोपेश में हैं। ऐसा इसलिए भी, क्योंकि एक तरफ सरकार ने साफ किया है कि क्रिप्टोकरेंसी को लेकर नया और सख्त कानून लाया जाएगा। तो वहीं दूसरी तरफ भारतीय क्रिप्टोकरेंसी लाने पर विचार कर रही है। इसके अलावा भारत में क्रिप्टोकरेंसी पर बैन लगाने और इसे अपराध की श्रेणी में डालने के बीच एक अच्छी खबर सामने आ रही है। गौरतलब है कि, केंद्र सरकार (Central Government) क्रिप्टोकरेंसी को रेगुलेट करने की सोच रही है।

इसकी स्टडी को लेकर केंद्र सरकार एक खास विशेषज्ञों का नया पैनल बना सकती है। ET की खबर को माने तो, नई समिति का कार्यक्षेत्र तकनीकी वृद्धि के लिए ब्लॉकचेन के उपयोग का पता लगाना और क्रिप्टो को मुद्रा के बजाय डिजिटल संपत्ति के रूप में विनियमित करने के तरीके सुझाना हो सकता है। भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) के प्रस्तावित डिजिटल रुपये के संचालन के तरीकों का अध्ययन करने के लिए भी समिति से कहा जा सकता है। दरअसल सरकार भारत में क्रिप्टो को नए सिरे से शुरू पर विचार कर रही है। हालांकि, इसको लेकर कोई भी स्थिति साफ नहीं है और ये अभी शुरुआती चरण में हैं। बता दें कि अभी तक इसको लेकर कोई औपचारिक प्रस्ताव पारित नहीं किया गया है।

सामने आ रही खबरों के मुताबिक, वित्त मंत्रालय, देश में क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग पर निगरानी किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? कर रहा है। साथ ही इसमें होने वाले जोखिमों को लेकर स्टेकहोल्डर और जानकारों से बात कर रहा है। बता दें कि इससे पहले इस संबंध में वित्त और कॉर्पोरेट मामलों के राज्य मंत्री, अनुराग ठाकुर ने क्रिप्टो और बैंकिंग इंडस्ट्री फोरम के सदस्यों से मुलाकात की थी। खबर है कि अनुराग ठाकुर भी इस नए पैनल में सदस्य हो सकते हैं।

Anurag Thakur Nirmla Sitaraman

जिस तरह से कार्य प्रगति पर है, उसे देखते हुए माना जा रहा है कि, वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitharaman) की टीम इस महीने के अंत तक क्रिप्टोकरेंसी मार्केट के बारे में जानकारी देंगी। स्पष्ट है कि, भारत में भी क्रिप्टोकरेंसी को लेकर इसमें निवेशक तेजी से बढ़ रहे हैं। इसमें लोगों को मोटी कमाई भी हो रही है। भारत में क्रिप्टोकरेंसी में निवेश करन वाले निवेशकों की संख्या एक करोड़ के करीब पहुंच गई है। अनुमान के मुताबिक भारत में विभिन्न क्रिप्टोकरेंसी में 10 हजार करोड़ रुपये (1.36 अरब डॉलर) निवेश हो चुका है।

क्या है क्रिप्टोकरेंसी

यह एक किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? प्रकार की वर्चुअल करेंसी होती है, जो कंप्यूटर एल्गोरिद्म पर बनी होती है। इसका संचालन आईडी और पावसर्ड के जरिये किया जाता है। इसका कोई नियामक नहीं है। दुनिया में बिटक्वाइन के अलावा कई अन्य क्रिप्टोकरेंसी भी मौजूद हैं जैसे- रेड क्वाइन, सिया क्वाइन, वॉइस क्वाइन, डाॅगक्वाॅइन, सिबा इनू, सिस्क्वाइन और मोनरो आदि। दुनिया के ज्यादातर देशों में इसकी मंजूरी नहीं है। बता दें कि सरकार ने 2019 में भी क्रिप्टोकरेंसी पर बैन लगाने और इसको आपराधिक बनाने के बिल तैयार किया था। हालांकि, यह बिल संसद में पेश नहीं हो पाया था।

एक्सआरपी क्या है

एक्सआरपी क्या है

यदि आप आभासी मुद्राओं और क्रिप्टोकरेंसी की दुनिया में हैं (जो, हालांकि वे एक ही शब्द की तरह लगते हैं, उनमें वास्तव में कुछ अंतर हैं) तो निश्चित रूप से आप जानते हैं कि एक्सआरपी क्या है। कुछ साल पहले इसे रिपल के नाम से जाना जाता था, लेकिन 2018 में इसका नाम बदल गया।

लेकिन एक्सआरपी क्या है? ये किसके लिये है? यह अन्य क्रिप्टोकरेंसी से क्या अलग करता है? इसका उपयोग कब किया जा सकता है? यदि विषय ने आपका ध्यान खींचा है, तो हम आपको इसके बारे में जानने के लिए आवश्यक हर चीज का उत्तर देने का प्रयास करेंगे।

एक्सआरपी क्या है

एक्सआरपी क्रिप्टोक्यूरेंसी, जिसे एक्सआरपी लेजर या रिपल भी कहा जाता है, वास्तव में एक है मुफ्त भुगतान परियोजना जो पीयर-टू-पीयर के माध्यम से एक क्रेडिट सिस्टम स्थापित करना चाहती है। दूसरे शब्दों में कहें तो पूरा सिस्टम एक तरह का म्युचुअल बैंक इस तरह बन जाता है कि हर कोई एक दूसरे की मदद करता है।

मुद्रा उन सभी लोगों के लिए एक साधन होने के कार्य को पूरा करती है जो मंच के माध्यम से अपनी मुद्रा उत्पन्न करने के लिए मंच का उपयोग करते हैं।

यानी हम a . की बात कर रहे हैं मुद्रा, या टोकन, जो एक कंपनी द्वारा बनाया गया है और जिसका उपयोग लोगों को क्रिप्टोक्यूरैंक्स के साथ काम करने की सुविधा देने पर आधारित है. बेशक, एक्सआरपी भुगतान विधि और सीमाहीन मुद्रा विनिमय दोनों बन जाता है।

एक्सआरपी की उत्पत्ति

एक्सआरपी की उत्पत्ति

XRP एक अमेरिकी कंपनी Ripple से संबंधित है। रिपल प्रोटोकॉल, जो कि इस कंपनी को नियंत्रित करता है, 2004 में एक प्रोटोटाइप के रूप में बनाया गया था, इस तथ्य के बावजूद कि एक निगम के रूप में इसकी नींव 2013 में थी।

रिपल की स्थापना करने वाले व्यक्ति रयान फुगगेर थे, कि वह जो खोज रहा था वह एक विनिमय प्रणाली बनाना था लेकिन वह विकेंद्रीकृत था। हालांकि, वर्षों बाद, और जेड मैककलेब और क्रिस लार्सेनी के साथ बातचीत के बाद, उन्होंने अपनी कंपनी को इन दोनों को सौंपने का फैसला किया, जिन्होंने क्रिप्टोकुरेंसी और कंपनी दोनों को बनाया था।

समय के साथ, यह बीबीवीए जैसे विभिन्न बैंकों के साथ लाइसेंस प्राप्त कर रहा है।

रिपल और एक्सआरपी के बीच का अंतर

सबसे पहले आपको पता होना चाहिए कि सिक्का का जन्म 2012 में रिपल नाम से हुआ था। दरअसल, रिपल एक कंपनी का नाम था, रिपल लैब्स कंपनी, जिसकी स्थापना क्रिस लारसेनी और जेड मैककलेब ने की थी। समस्या यह है कि मुद्रा और कंपनी दोनों का एक ही नाम था। चूंकि, 2018 में उन्होंने समुदाय के सहयोग से सिक्के का नाम बदलने का फैसला किया, जिन्होंने XRP नाम चुना था।

इस प्रकार, हम कह सकते हैं कि रिपल कंपनी, ब्रांड है; जबकि एक्सआरपी वास्तव में क्रिप्टोक्यूरेंसी है।

सुविधाओं

इसमें कोई संदेह नहीं है कि एक्सआरपी मुद्रा बिटकॉइन के लिए सबसे अधिक प्रतिस्पर्धी लोगों में से एक है, हालांकि उनमें चीजें समान हैं, कई अलग-अलग भी हैं। इस अर्थ में, हम बात करते हैं:

  • Un सुरक्षित और बहुत कुशल भुगतान प्रणालीइतना है कि यह बिटकॉइन, एथेरियम और अन्य आभासी मुद्राओं के विपरीत सेकंड (लगभग 4 सेकंड केवल) में लेनदेन करने में सक्षम है।
  • आपकी अनुमति देता है व्यापार और संस्थागत उपयोग दोनों।
  • Es बैंकों द्वारा स्वीकृत और उपयोग दोनों, जिसका अर्थ है कि इसके पास उतने नियंत्रण और नियम नहीं हैं और इसके साथ काम करना बहुत आसान है। वास्तव में, यदि हम डेटा से चिपके रहते हैं, तो रिपल लैब्स के पास पहले से ही 60% से अधिक सिक्के हैं जो आज मौजूद हैं।
  • यह है बहुत कम कमीशन एक महत्वपूर्ण कारक के कारण। और यह है कि इसे प्राप्त करने के लिए खनन की आवश्यकता नहीं है, सभी एक्सआरपी टोकन पहले से ही सक्रिय हैं और यदि आवश्यक हो, तो कंपनी स्वयं अधिक टोकन जारी कर सकती है।
  • इसके केंद्रीकरण के कारण, हम बात करते हैं a मुद्रा दूसरों की तुलना में सुरक्षित, कम अस्थिरता के कारण इसमें है।

एक्सआरपी कैसे काम करता है

एक्सआरपी कैसे काम करता है

जैसा कि हमने आपको पहले बताया है, एक्सआरपी बिटकॉइन या अन्य क्रिप्टोकरेंसी के समान नहीं है, लेकिन कंपनी के सर्वसम्मति प्रोटोकॉल, रिप्लेनेट सिस्टम के संयोजन में डीएलटी तकनीक का उपयोग करके संचालित होता है।

इस प्रकार, जो हासिल किया जाता है वह है a . बनाना नेटवर्क जो स्वतंत्र सर्वरों द्वारा प्रबंधित किया जाता है, लेकिन एक केंद्रीकृत संरचना के तहत। और इस संरचना को बनाने वाले प्रत्येक नोड बैंकों के हैं, जो सिस्टम का उपयोग करते हैं और जो कंपनी रिपल लैब्स किस प्रकार की क्रिप्टोकरेंसी मौजूद हैं? के साथ काम करते हैं। कुछ नाम रखने के लिए, हमारे पास है: बीबीवीए; सेंटेंडर, वेस्टपैक, एनबीएडी, फेडरल बैंक ऑफ इंडिया .

इस क्रिप्टोकुरेंसी का उपयोग कब करें

हमने आपको जो कुछ भी बताया है, उसके बाद आप निश्चित रूप से नहीं जानते होंगे कि अन्य मुद्राओं, आभासी या भौतिक की तुलना में इस क्रिप्टोकरेंसी का उपयोग करना कब बेहतर है। वास्तव में, वे सबसे अच्छे हैं अंतरराष्ट्रीय लेनदेन करने के साथ-साथ भुगतान या स्थानान्तरण करने के लिए जिसके लिए मुद्रा विनिमय की आवश्यकता होती है, क्योंकि, यदि आप नहीं जानते हैं, तो उस परिवर्तन के लिए कुछ लागतें हो सकती हैं जो आपको माननी होंगी।

यह न केवल उन व्यक्तियों और कंपनियों के लिए एक लाभ है जो इसका उपयोग करते हैं, बल्कि स्वयं बैंकों के लिए भी, जिन्हें मुद्रा विनिमय के लिए विभिन्न मुद्राओं के साथ काम करने की आवश्यकता नहीं है, लेकिन सीधे ऐसा कर सकते हैं।

सबसे अच्छी बात यह है कि ये आदान-प्रदान सेकंडों में होते हैं, दूसरों के विपरीत जिसमें आधे घंटे या उससे भी अधिक समय लग सकता है।

एक्सआरपी का बी-साइड

एक्सआरपी का बी-साइड

इससे पहले हम आपको बता चुके हैं कि XRP कितना अच्छा और कितना कार्यात्मक हो सकता है। हालांकि, अगर यह इतना अच्छा था, तो आप इसके बारे में और अधिक क्यों नहीं सुनते? ठीक है, शुरू करने के लिए, क्योंकि हम बात कर रहे हैं aएक समाधान जो लगभग हमेशा बैंकों और वित्तीय संस्थानों पर केंद्रित होता है, लेकिन यह बहुत दुर्लभ है कि यह आम जनता को दिया जाता है, या वे इसे जानते भी हैं।

इसके अलावा, यह एक है निजी कोड के साथ बंद प्रक्रिया और यह कि सब कुछ रिपल लैब्स के माध्यम से होता है, जिसके कारण बहुत से लोग उस छोटी सी जानकारी के लिए आलोचना करते हैं जिसका वे खुलासा करते हैं, और इससे आपको यह महसूस हो सकता है कि कंपनी की ओर से कीमतों में हेराफेरी की गई है। यदि हम इसमें जोड़ते हैं कि यह क्रिप्टोकरेंसी के सभी मानकों का पालन नहीं करता है (क्योंकि वास्तव में, जैसे कि यह इस तरह से शासित नहीं है), तो यह कई लोगों को इसे ध्यान में नहीं रखता है।

अंतिम निर्णय आप पर निर्भर करेगा, लेकिन यदि आपका किसी एक बैंक में खाता है जिसके साथ यह कंपनी संचालित होती है, तो यह देखने के लिए कि वे किस प्रकार की जानकारी दे सकते हैं, अपॉइंटमेंट लेना और उस पर टिप्पणी करना एक बुरा विचार नहीं होगा। आप इसके बारे में।

क्या अब यह स्पष्ट है कि एक्सआरपी क्या है और यह आपके लिए क्या कर सकता है?

लेख की सामग्री हमारे सिद्धांतों का पालन करती है संपादकीय नैतिकता। त्रुटि की रिपोर्ट करने के लिए क्लिक करें यहां.

लेख का पूरा रास्ता: अर्थव्यवस्था वित्त » सामान्य अर्थव्यवस्था » एक्सआरपी क्या है

रेटिंग: 4.21
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 754
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *