शेयर बाजार की मूल बातें

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करता है?

इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करता है?

How to make money in intraday trading

इंट्राडे ट्रेडिंग दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली ट्रेडिंग है। यह भी सबसे अस्थिर और तनावपूर्ण में से एक है। यदि आप इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसा कमाना चाहते हैं, तो यह महत्वपूर्ण है कि आप जानते हैं कि नुकसान से बचने और अपनी भावनाओं को नियंत्रण में रखने के लिए क्या करना पड़ता है।

Table of Contents

जोखिमों को जानें

निवेश का जोखिम नुकसान की संभावना है। यह अनिश्चितता से अलग है, जो भविष्य की घटनाओं या परिणामों के बारे में ज्ञान की कमी है जिसके परिणामस्वरूप कुछ होने (या नहीं होने) की संभावना होती है। जोखिम भी समय और अस्थिरता का एक कार्य है, या समय के साथ आपकी संपत्ति में कितना उतार-चढ़ाव होता है।

जब आप स्टॉक या अन्य निवेश खरीदते हैं, तो आप कुछ जोखिम उठा रहे होते हैं – इस मामले में, यदि कीमत फिर से बढ़ने से पहले गिरती है तो आप पैसे खो सकते हैं (“जोखिम प्रीमियम”)। उस ने कहा, इस प्रकार के जोखिमों को कम करने के लिए रणनीतियाँ हैं ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि वे समय के साथ आपके पोर्टफोलियो को प्रभावित नहीं करते हैं:

कम करें कि प्रत्येक व्यापार में कितना पैसा जाता है ताकि नुकसान होने में अधिक समय लगे; यह उन्हें त्रुटि के लिए कम जगह देगा

ब्रोकर द्वारा अनुशंसित की तुलना में अधिक लीवरेज वाले मार्जिन खातों का उपयोग करें

अपनी Time frame जानें

इंट्राडे ट्रेडिंग एक अल्पकालिक निवेश रणनीति है। इसमें एक ही दिन में ट्रेडिंग सिक्योरिटीज शामिल हैं, आमतौर पर किसी भी दिन सुबह 9:00 बजे से दोपहर 1:30 बजे के बीच। इसका मतलब है कि स्टॉक एक घंटे के भीतर या उनकी दैनिक सीमा (या तीसरे) के इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करता है? दो तिहाई के भीतर खरीदे और बेचे जाते हैं।

इंट्राडे ट्रेडिंग के कई फायदे हैं। सबसे पहले, आप पैसा कमा सकते हैं यदि आप जानते हैं कि आपके बाजार की स्थितियों के लिए कौन सी समय सीमा काम करती है और आप कितना जोखिम लेने को तैयार हैं। दूसरा, यह अन्य प्रकार के निवेशों की तरह जटिल नहीं है क्योंकि दुनिया भर के बाजारों को प्रभावित करने वाले ब्याज दर आंदोलनों या मैक्रोइकॉनॉमिक घटनाओं जैसे कई अंतर्निहित कारक शामिल नहीं हैं; केवल यह मायने रखता है कि प्रत्येक महीने/तिमाही/वर्ष आदि के दौरान निश्चित दिनों के दौरान निश्चित समय पर कुछ शेयरों में पर्याप्त तरलता है या नहीं… तीसरा”, चौथा…

अनुसंधान और एक अच्छी रणनीति विकसित करें।

पहली बात यह है कि एक अच्छी रणनीति पर शोध और विकास करना है। अगर आपको नहीं पता कि इसका क्या मतलब है, तो चिंता न करें! यह उतना मुश्किल नहीं है जितना लगता है।

बाजार में कई अलग-अलग रणनीतियां उपलब्ध हैं, लेकिन उन सभी के अपने फायदे और नुकसान हैं। आपके लिए सही खोजने के लिए, निम्नलिखित पर विचार करें:

मैं किस प्रकार का व्यापार करना चाहता हूँ? डे-ट्रेडिंग या स्विंग ट्रेडिंग? इंट्राडे या इंटरडे? सिंगल स्टॉक या इंडेक्स?

मैं कितनी बार ट्रेडिंग करूंगा (दैनिक/साप्ताहिक)? मेरे सिग्नल कितने समय तक चलने चाहिए (1 मिनट ऊपर/नीचे)? क्या मैं स्टॉप लॉस का इस्तेमाल करूंगा या प्रॉफिट लूंगा। क्या मुझे किसी भी ट्रेलिंग स्टॉप लॉस की आवश्यकता है? क्या इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि मैं अपनी इंट्राडे ट्रेडिंग रणनीति के साथ शुरुआत करते समय कितनी पूंजी का उपयोग करता हूं

इमोशनल ट्रेडिंग से बचें

भावनात्मक व्यापार आपदा के लिए एक नुस्खा है। यह खराब निर्णयों की ओर ले जाता है, और यह आपको धन, आत्मविश्वास और आत्म-सम्मान की हानि की ओर ले जा सकता है।

जब आप अपने ट्रेडों में भावनात्मक रूप से निवेशित होते हैं, तो तर्क के बजाय भावनाओं के आधार पर खरीदने या बेचने में चूसा जाना आसान होता है – और यदि व्यापारियों के रूप में हमारे वर्षों के अनुभव से हमने एक चीज सीखी है, तो यह है कि भावनाओं को कभी भी शामिल नहीं किया जाना चाहिए। अपने निवेश के बारे में निर्णय लेने में।

आप इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसा कमा सकते हैं लेकिन आपको पहले अपना होमवर्क करना होगा।

आप इंट्राडे ट्रेडिंग में पैसा कमा सकते हैं लेकिन आपको पहले अपना होमवर्क करना होगा।

अल्पावधि में, इस बात की कोई गारंटी नहीं है कि आप लाभदायक होंगे। पैसा कमाने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि धैर्य रखें और समझें कि बाजार के रुझान को सामने आने और लाभदायक स्थिति में विकसित होने में समय लगता है। यदि कोई स्थिति काम नहीं कर रही है तो उसे जबरदस्ती करने की कोशिश न करें; इसके बजाय, आगे बढ़ें और अन्य अवसरों को देखें जो समय के साथ या विभिन्न बाजारों में प्रकट हो सकते हैं।

यदि आपको इस बारे में कोई संदेह है कि इंट्राडे रणनीति लंबे समय तक काम करेगी या नहीं (4 सप्ताह से अधिक), तो उनका उपयोग न करें! इस प्रकार के व्यापार में बहुत अधिक जोखिम शामिल हैं, इसलिए जब तक सब कुछ सही नहीं दिखता तब तक उनका उपयोग न करें!

निष्कर्ष

संक्षेप में, इंट्राडे ट्रेडिंग पैसा बनाने का एक शानदार तरीका है। आप विदेशी मुद्रा या स्टॉक जैसे विभिन्न बाजारों से चुन सकते हैं और बहुत से लोग इन रणनीतियों का उपयोग करके पैसा कमा रहे हैं। हालांकि, इससे पहले कि आप व्यापार शुरू करें, अपना शोध करना महत्वपूर्ण है क्योंकि इस प्रकार की निवेश रणनीति से जुड़े जोखिम हैं जो हर किसी की जरूरतों के अनुरूप नहीं हो सकते हैं।

F&O के जरिए ऐसे होगी ऊंची कमाई, एक दिन में हो सकते हैं मालामाल

इंट्रा-डे ट्रेडिंग एक स्ट्रैटजी होती है जो किसी भी एसेट में एक सत्र के दौरान मूल्यों में आए तेज बदलाव का फायदा उठाने के लिए इस्तेमाल की जाती है। इसमें निवेशक का पैसा काफी कम समय के लिए बाजार में रहता है।

नई दिल्ली, ब्रांड डेस्क। शेयर बाजार में कमाई के लिए दो तरह की रणनीतियां अपनाई जाती हैं। पहली रणनीति में कमाई की उम्मीद रखने वाला वर्ग निवेशकों का होता है जो इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करता है? बाजार में पैसा पनपने के लिए छोड़ते हैं और समय के साथ ऊंचे रिटर्न हासिल करने की कोशिश करते हैं। वहीं दूसरा वर्ग ट्रेडर्स का होता है जो बाजार में छोटी-छोटी अवधि के कई ट्रेड यानी इंट्रा डे ट्रेड से अपना रिटर्न ऊंचा बनाते हैं। दोनो ही तरीकों के अपने फायदे और नुकसान हैं। हालांकि आम लोगों को जो वर्ग सबसे ज्यादा आकर्षित करता है वो वर्ग ट्रेडर्स का होता है, क्योंकि इसमें छोटी अवधि के दौरान ऊंची कमाई दिखती है।

Investing in these three sectors of the stock market gives good returns

5paisa के साथ शुरू करें निवेश का सफर, विजिट करें- https://bit.ly/3n7jRhX

क्या होती है इंट्रा डे ट्रेडिंग

इंट्रा डे ट्रेडिंग का मतलब एक सत्र के अंदर ही कारोबार को पूरा करना होता है। आमतौर पर शेयर बाजार सुबह सवा 9 बजे से दोपहर बाद साढ़े तीन बजे तक खुला रहता है। अगर कोई कारोबारी सुबह कोई खरीद या बिक्री का सौदा करता है और शाम को इसी सौदे का उल्टा, यानी सुबह की खरीद पर शाम को बिक्री या फिर सुबह की बिक्री पर शाम को खरीद करता है तो इससे उसकी पोजीशन खत्म हो जाती है और एक ही दिन में वो वास्तविकता में बिना पैसे लगाए मुनाफा कमा लेता है। इसे ऐसे समझिए कि अगर कोई शख्स सुबह किसी शेयर को 100 रुपये में खरीदता है और शाम को वो 102 रुपये में इसी शेयर को बेच देता है तो अकाउंट में सुबह एक शेयर जुड़कर शाम को एक शेयर घट जाता है यानी बैंलेंस शून्य रहता है। वहीं खाते से 100 रुपये कटते हैं लेकिन 102 रुपये मिलते हैं यानी खाते में 2 रुपये बढ़ जाते हैं। इसका मतलब यह है कि आपके पोर्टफोलियो में बिना कोई शेयर बढ़े या घटे आपके बैंक खाते में 2 रुपये बढ़ जाते हैं।

Investing in these two sectors will be helpful to get good returns in a short time

क्यों ट्रेडर्स करते हैं इंट्रा-डे ट्रेडिंग

इंट्रा डे ट्रेडिंग काफी जोखिम भरा काम है लेकिन इसमें माहिर ट्रेडर्स के लिए ये छोटी रकम से मोटा मुनाफा कमाने का तरीका भी है। दरअसल इंट्रा डे की मदद से आप एक ही रकम को बार बार इस्तेमाल कर हर ट्रेड से मुनाफा कमा सकते है। इसमें हर शाम पोजीशन खत्म करने से आपकी रकम अगले दिन नए सौदे के लिए फ्री हो जाती है। हालांकि इसमें जोखिम काफी ज्यादा होता है, ऐसे में इंट्रा डे सौदे करने के लिए या तो आपके पास बाजार की अच्छी समझ होनी चाहिए या फिर आपके पास बाजार को समझने वाला एक सलाहकार होना चाहिए। 5paisa आपको इसी तरह बाजार से जुड़ी अपनी टिप्स देता है जिसके जरिए आप इंट्रा डे में यानी एक दिन में ही बाजार में कमाई कर सकते हैं।

Stock Market Investment: Derivatives Market, Know all Details

एफएंडओ स्टॉक्स में इंट्रा-डे ट्रेडिंग

इंट्रा-डे ट्रेडिंग एक स्ट्रैटजी होती है जो किसी भी एसेट में एक सत्र के दौरान मूल्यों में आए तेज बदलाव का फायदा उठाने के लिए इस्तेमाल की जाती है। इसमें निवेशक का पैसा काफी कम समय के लिए बाजार में रहता है और तेजी से ट्रेड की वजह से कुल रकम पर रिटर्न बेहद ऊंचे हो जाते हैं। इस रणनीति का फायदा एफएंडओ में भी उठाया जाता है जहां डेरिवेटिव्स में एक सत्र के दौरान आए तेज उतार-चढ़ाव से ऊंचे रिटर्न बनाए जाते हैं। वहीं एफएंडओ स्टॉक्स में इंट्रा-डे ट्रेडिंग का एक और फायदा मिलता है। दरअसल, मार्जिन की वजह से एफएंडओ स्टॉक्स में ट्रेड कॉन्ट्रैक्ट वैल्यू के काफी कम अमाउंट पर किया जा सकता है यानी आप जितनी रकम सामान्य स्टॉक्स की ट्रेडिंग में लगाते हैं उतनी ही रकम से एफएंडओ में इससे कहीं ज्यादा बड़े सौदे कर सकते हैं। अगर आपकी गणित सही रहा तो एफएंडओ स्टॉक में इंट्रा डे रणनीति से आप अपना फायदा उतनी ही रकम पर कई गुना बढ़ा सकते हैं।

हालांकि इस तरह की रणनीति में रकम डूबने के खतरे भी ज्यादा होते हैं ऐसे में आपको सही सलाह की जरूरत होती है। 5paisa का F&O segment पर पूरा फोकस है और एप आपको उसी रकम से तेजी के साथ ऊंचे रिटर्न पाने में मदद करता है. अगर आप अपनी रकम का ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाना चाहते हैं तो 5paisa के साथ अकाउंट खोल कर बाजार में अपनी जर्नी शुरू करें और देखें कि कैसे कम रकम से भी ऊंचे रिटर्न हासिल किए जा सकते हैं।

Trading से पैसे कैसे कमाते हैं | Trading Se Paise Kaise Kamaye 2022

इस पोस्ट में जानेंगे – ट्रेडिंग क्या है ( Trading kya hai ), ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है ( Types of Trading in hindi ), Trading से पैसे कैसे कमाए (Trading Se Paise Kaise Kamaye).

Trading के बारे में आपके सारे Confusion को दूर करने के लिए हमने यह पोस्ट आपके लिए लिखा है। इस लेख में आपको पूरी जानकारी जानने को मिलेगा कि ट्रेडिंग क्या है, ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है, ट्रेडिंग कैसे की जाती है और ट्रेडिंग से पैसे कैसे कमायें जाते हैं (Trading Se Paise Kaise Kamaye) तथा कुछ Best Trading App के बारे में भी आपको इस लेख में जानने को मिलेगा।

शेयर मार्केट में Trading करना और Trading से पैसे कमाना आज के समय में एक सामान्य बात हो गयी है, मोबाइल में अनेक प्रकार के Trading App हैं जिससे यूजर आसानी से Trading कर सकते हैं और पैसे कमा सकते है। अगर आप शेयर मार्किट बारे में विशेष कुछ नहीं जानते हैं तो इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि – नए लोग शेयर बाजार से पैसा कैसे कमाए (Must read)

ट्रेडिंग क्या है ( Trading kya hai ).

सामान्य तौर पर ट्रेडिंग का मतलब क्रय और विक्रय से हैं, जब हम किसी चीज को खरीदते हैं और उसे बेच देते हैं इस प्रक्रिया को ट्रेडिंग कहते हैं. हमारे आसपास हम बहुत सी चीजों को देखते हैं जो किसी ना किसी के द्वारा खरीदी बेची जाती है, वह सभी लोग जो इन चीजों के क्रय विक्रय में शामिल होते हैं ट्रेडर कहलाते हैं।

इसी प्रकार स्टॉक मार्केट में जब आप शेयरों की खरीदारी और विक्रय करते हैं तब आप शेयर मार्केट में एक ट्रेडर कहलाते हैं, और आपके द्वारा की गई क्रिया जिसमें आप शेयर को खरीदते हैं और बेचते हैं ट्रेडिंग कहलाती है।

शेयर मार्केट दो तरह से इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करता है? पैसा लगाया जाता है, एक है निवेश तो दूसरा ट्रेडिंग। सेम डे या शार्ट टर्म के लिए किसी शेयर के क्रय-विक्रय की प्रक्रिया को ट्रेडिंग कहते हैं।

ट्रेडिंग कितने प्रकार की होती है ( Types of Trading in hindi )

Share Market में trading को चार भागों में विभाजित किया गया है।

  1. इंट्रा-डे ट्रेडिंग ( Intraday Trading )
  2. स्विंग ट्रेडिंग या शार्ट टर्म ट्रेडिंग (Swing Trading or Short Term Trading )
  3. स्कैल्पर ट्रेडिंग ( Scalper Trading)
  4. पोज़िशनल ट्रेडिंग ( Positional Trading )

Intraday Trading क्या है?

Intraday Trading में एक ही दिन में शेयर खरीद कर उसे बेच दिया जाता है, यानी मतलब यह हुआ कि वह traders जो Market (9:15 am) के खुलने के बाद शेयर खरीद लेते हैं और मार्केट बंद (3:30 pm) होने से पहले शेयर को बेच देते है। ऐसे ट्रेडर्स को इंट्रा-डे ट्रेडर्स कहा जाता है। बता दू कि इसे डे-ट्रेडिंग, MIS (Margin Intra day Square off) आदि भी कहते है।

Intra Day ट्रेडिंग के लिए ब्रोकर आपके ट्रेडिंग अकाउंट में मौजूद रकम का 20 गुना आप को मुहैया कराता है। इसका मतलब यह है कि आप उधार रकम लेकर शेयर खरीद सकते हैं और उसी दिन बेच कर उसे वापस कर सकते हैं। यह वास्तव में वैसे निवेशकों के लिए जिन्हें बाजार की बहुत ज्यादा समझ होती है।

Swing Trading क्या है?

Swing Trading वह trade जो कुछ दिनों के लिए शेयर को खरीदते और बेचते है। यानी मतलब यह हुआ कि वह traders जो एक दो हफ़्ते के लिए शेयर को खरीदने के बाद बेच देते हैं। इसमें ट्रेडर को पूरे दिन चार्ट को देखना नहीं पड़ता है। यह उन लोगो ( जॉब, स्टूडेंट्स आदि) के लिए बेहतर होता है जो ट्रेडिंग में अपना पूरा दिन नहीं दे सकते हैं।

Scalping Trading क्या है?

Scalping Trading वह trade जो कुछ सेकंड या मिनट के लिए trade किया जाए। यानी मतलब यह हुआ कि वह traders जो केवल कुछ सेकंड या मिनट के लिए शेयर की खरीद और बिक्री करते हैं। ऐसे ट्रेडर्स को scalpers कहा जाता है। बता दू कि scalping trading को सबसे जायदा रिस्की होता है।

Positional Trading क्या है?

Positional Trading वह ट्रेड जो कुछ महीने के लिए होल्ड किए जाएं। यह मार्केट का long term movement को कैप्चर करने के लिए किया जाता है। ताकि एक अच्छा मुनाफा हो सके। शेयर बाजार की रोजाना के up-down से इन पर जायदा असर नहीं होता है। यह बाकी सभी trading से कम रिस्की होता है।

Position Trading को Delivery Trading भी बोलते है, क्योंकि Position मतलब अपनी जगा फिक्स करना जैसे कि Intraday Trading हम एक दिन के लिए Trading कर सकते थे, ठीक वैसे ही Position Trading में हम अपने Stock को जो हमे Buy या Sell क्या है उसको हम होल्ड करके रख सकते है, कुछ टाइम के लिए।

डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है ? [निवेश करने के प्रक्रिया की जानकारी]

दोस्तों, क्या आप शेयर बाजार में निवेश करना चाहते है लेकिन बाजार के प्रतिदिन उतर चढ़ाव का जोखिम नहीं लेना चाहते है ? आपके लिए डिलीवरी ट्रेडिंग (Delivery Trading) एक बेहतर विकल्प है। यह निवेशकों में बहुत लोकप्रिय और सुरक्षित है।

डिलीवरी ट्रेडिंग

डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है ?

डिलीवरी ट्रेडिंग में निवेशक शेयर को अपने डीमैट खाता में जमा करता है। डीमैट खाता (Demat Account) में निवेशक बिना किसी समय अवधि तक होल्ड करके रख सकता है और फिर इच्छानुसार कभी भी अपने शेयर को बेच सकता है। जैसे इंट्राडे ट्रेडिंग में, ट्रेडर्स को एक दिन के अंदर ही शेयर खरीदने या बेचने की प्रतिबद्धता है, लेकिन डिलीवरी ट्रेडिंग में शेयर खरीदने या बेचने के लिए कोई परिसीमा नहीं है। निवेशक दो दिन के अंदर या दो वर्षो बाद भी अपने शेयर को बेच सकता इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करता है? है।

निवेशक के पास पूर्ण अधिकार होता है की वह अपने इच्छा के अनुसार अपने शेयर को होल्ड या बेच सकता है। डिलीवरी आधारित ट्रेडिंग ऐसे निवेशकों के लिए अच्छा होता है जो ज्यादा जोखिम नहीं लेना चाहते है और लॉन्ग टर्म इन्वेस्टमेंट स्टॉक में मुनाफा बनाना चाहते हैं। डिलीवरी ट्रेडिंग में निवेशक को शेयर खरीदने से पहले उस कीमत के बराबर पैसे तैयार रखने होते है।

उदाहरण : यदि आप XYZ कंपनी के 100 शेयर खरीद रहे है जिसकी कीमत ₹ 15000 है तो आपके डीमैट खाता में ₹ 15000 की कैश रखना होगा। और यदि आप XYZ कंपनी के 110 शेयर बेचना (Sell) चाहते है तो 110 शेयर आपके डीमैट खाता में होना चाहिए।

डिलीवरी ट्रेडिंग में निवेशक विभिन्न प्रकार से निवेश कर सकता है जो निम्नलिखित है

  • इक्विटी
  • फॉरेक्स
  • कमोडिटी
  • डेरीवेटिव
  • म्यूच्यूअल फंड्स

डिलीवरी ट्रेडिंग के नियम

आप डिलीवरी ट्रेडिंग में निवेश करना चाहते है तो आपको कुछ महत्वपूर्ण बातों का ध्यान देना आवश्यक है। यह आपको सही शेयर खरीदने में मदद करेगा। आप शेयर बाजार में नए है और किसी निपुण निवेशक सलाहकार की इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करता है? मदद चाहिए तो आप CapitalVIa Global Research Limited से संपर्क कर सकते है। आईये जानते है कुछ बुनियादी नियम के बारें में जिसका पालन शेयर खरीदते समय करना चाहिए।

  • सबसे पहले आपको कुछ कंपनी के fundamental Analysis के अध्यन करने के बाद एक सूचि तैयार करे।
  • भविष्य में उसके विकास, बैलेंस शीट आदि को ध्यान में रखकर अपने wishlist में शामिल करे।
  • अपने निवेश के जोखिम के अनुसार अपने डीमैट खाता में उतना धन संचित करे।
  • सही शेयर की कीमत देखकर शेयर को ख़रीदे।
  • बेचने के लिए सही समय की प्रतीक्षा करे ताकि आपको नुकसान नहीं हो।
  • टारगेट और स्टॉप लॉस अवश्य लगाए।
  • आपको पैसे अलग -2 कंपनियों में निवेश करे जिससे आपका जोखिम काम और रिटर्न्स अच्छा प्राप्त होगा।

डिलीवरी ट्रेडिंग कैसे करें?

कोई भी निवेशक डिलीवरी ट्रेडिंग को प्रक्रिया का चयन तभी करता है जब उसको long term के लिए निवेश करना है। डिलीवरी ट्रेडिंग में अपने कंपनियों के शेयर कोई खरीदते है और अपने डीमैट खाता में होल्ड करते है। आप अपने शेयर को जब अपने डीमैट खाता में रखना चाहे तो रख सकते है और जब आपको अपने शेयर कर अच्छा रिटर्न्स मिल रहा है तो आप उसको बेच सकते है। शेयर बेचने का निर्णय आप पर निर्भर है। अन्य इंट्राडे ट्रेडिंग के तरह आप बाध्य नहीं है।

डिलीवरी ट्रेडिंग में, आपके पास पर्याप्त धनराशि होनी चाहिए तभी आप शेयर को खरीद सकते है और बेचने के लिए भी आपके पास उतने शेयर होने चाहिए। डिलीवरी ट्रेडिंग में यदि आपका रणनीत अच्छी है तो आपको एक निश्चित अंतराल के बाद अच्छा रिटर्न्स प्राप्त होगा।

यदि आप शेयर बाजार में नए और आप सही शेयर खरीदने का निर्णय नहीं सकते है तो आपको सेबी रजिस्टर्ड निवेशक सलाहकार के इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करता है? परामर्श से आपको शेयर को खरीदने चाहिए। इससे शेयर बाजार के जोखिम काम हो सकता है।

डिलीवरी ट्रेडिंग के फायदे

डिलीवरी आधारित ट्रेडिंग सरल और सुरक्षित निवेश है इसके साथ -2 अन्य सुविधाएं है।

लॉन्ग टर्म निवेश

डिलीवरी आधारित ट्रेडिंग का सबसे बड़ा फ़ायदा है की आप शेयर को होल्ड कर सकते है, आप किसी समय अंतराल में बाध्य नहीं है।

उदाहरण : मान लीजिए कि अपने किसी कंपनी के शेयर में निवेश किया है और इसे होल्ड रखते हैं। कुछ समय बाद वह कंपनी या व्यवसाय आपको पॉजिटिव रिटर्न्स देता है, तो आप उस इन्वेस्ट में बने रह सकते हैं। लेकिन आपको कोई लाभ दिखाई नहीं देता है, तो आप उस शेयर को कभी भी बेचकर अपने पोजीशन से बाहर हो सकते हैं।

सुरक्षित

जब डिलीवरी आधारित ट्रेडिंग के माध्यम से शेयर खरीदते है तो आप वह शेयर बेचने के लिए समय के बाध्य नहीं है। यह आपके जोखिम की संभावना को काम करता है और आपके निवेश को सुरक्षित रखता है।

उदाहरण : मान लीजिए कि अपने किसी कंपनी के शेयर में निवेश किया है और किसी भी कारन से शेयर का दाम अगले दिन गिर जाता है। आप वह शेयर होल्ड रख कर सही समय का इंतज़ार कर सकते हैं। जब शेयर के दाम आपके निवेश किये राशि से ज्यादा है तो आप शेयर बेचकर मुनाफा अर्जित कर सकते है। इसलिए यह शेयर सुरक्षित है।

डिलीवरी आधारित ट्रेडिंग में, आप स्टॉक खरीदने के बाद बोनस के लिए योग्य है। जब भी कंपनी कुछ बोनस शेयरों को रोल आउट करती है, तो निवेशक बोनस का दावा कर सकते हैं।

उच्च लाभ

डिलीवरी आधारित ट्रेडिंग में निवेशकों को शेयर के रिटर्न्स के साथ बोनस भी मिलता है । इसलिए कुछ शेयर में आपके रिटर्न्स से भी ज्यादा रिटर्न्स मिलता है।

डिलीवरी ट्रेडिंग के नुकसान

शेयर बाजार में ट्रेडिंग या निवेश पूर्णतः परिपक्व नहीं होता है डिलीवरी ट्रेडिंग में कुछ नुकसान भी है। आपको निवेश करने से पहले अन्य संभावना का विश्लेषण करना आवश्यक है। यहां डिलीवरी ट्रेडिंग के कुछ नुकसान निम्नलिखित हैं:

पहले से भुगतान

डिलीवरी ट्रेडिंग में, आपको शेयर खरीदने से पहले आपके पास शेयर के दाम का पर्याप्त धनराशि होना चाहिए। निवेशक के लिए कई बार उतना धनराशि रखना मुश्किल हो जाता है और आप अच्छे शेयर खरीदने से वंचित हो जाते है।

अधिक ब्रोकरेज शुल्क

डिलीवरी ट्रेडिंग में आपको ब्रोकरेज शुल्क देना होता है। हालांकि कुछ ब्रोकर कंपनियां ब्रोकरेज शुल्क नहीं लेती है।

दोस्तों, डिलीवरी ट्रेडिंग एक लॉन्ग टर्म निवेश का विकल्प है। निवेशक शेयर को खरीदकर अपने डीमैट खाता में बिना समय अवधि के होल्ड करके रख सकता है और कभी भी बेच सकता है।

डिलीवरी ट्रेडिंग में निवेश करने के लिए कुछ मुलभुत नियमों का पालन करना आवश्यक है यदि आप सही शेयर खरीदने का निर्णय नहीं ले सकते है तो आपको सेबी रजिस्टर्ड निवेशक सलाहकार के परामर्श से निवेश कर सकते है। इंट्राडे ट्रेडिंग कैसे काम करता है? निवेशक को सदैव अलग-2 कंपनियों के शेयर में निवेश करना चाहिए यह आपके जोखिम को कम करता है।

अपने निवेश करने के चयन प्रक्रिया के बारें में जानकारी प्राप्त किया और साथ ही डिलीवरी ट्रेडिंग के फ़ायदे और नुकसान के बारें में विस्तृत रूप से समझे।

डिलीवरी ट्रेडिंग, डिलीवरी ट्रेडिंग क्या है, शेयर कैसे चुने , डिलीवरी ट्रेडिंग के नियम, डिलीवरी ट्रेडिंग में कैसे निवेश करें , डिलीवरी ट्रेडिंग के फ़ायदे, डिलीवरी ट्रेडिंग के नुकसान

रेटिंग: 4.30
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 572
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *