स्केलिंग ट्रेडिंग रणनीति

शेयर मार्केट डाउन क्यूँ होता है

शेयर मार्केट डाउन क्यूँ होता है
Top Stocks for Portfolio: निवेश के लिए 13 लार्जकैप और 9 मिडकैप शेयरों की लिस्‍ट, पोर्टफोलियो को बना देंगे दमदार

Zomato Share Price Today: जोमैटो में भारी गिरावट, रिकॉर्ड हाई से 76% टूटकर शेयर 50 रु के नीचे, निवेशक क्या करें?

Share Market Crash: जानें क्‍यों भड़भड़ाकर गिर रहे हैं भारतीय शेयर बाजार, क्‍या हैं इसके कारण

अमेरिकी महंगाई दर को लेकर जहां बाजार का अलुमान था कि या 8.3 प्रतिशत पर रहेगा वहीं यह 8.6 प्रतिशत आया। इसे देखते हुए अमेरिकी फेडरल रिजर्व हॉकिश रुख अपना सकता है। ऐसी परिस्थिति इक्विटी जैसे रिस्‍की एसेट्स के लिए नकारात्‍मक है

नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। पिछले कुछ हफ्तो से भारतीय शेयर बाजारों में गिरावट देखने को मिल रही है। विदेशी संस्‍थागत निवेशक लगातार अपने पैसे भारतीय पूंजी बाजार से निकाल रहे हैं। सोमवार को शुरुआती कारोबार के दौरान बीएसई का सेंसेक्‍स 1568.02 अंक टूट गया और 52734.98 के स्‍तर पर आ गया। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के चीफ इन्‍वेस्‍टमेंट स्‍ट्रेटजिस्‍ट वी के विजयकुमार के अनुसार, अल्‍पावधि के बाजार रुझान कमजोर नजर आ रहे हैं। अमेरिकी महंगाई दर को लेकर जहां बाजार का अनुमान था कि या 8.3 प्रतिशत पर रहेगा, वहीं यह 8.6 प्रतिशत आया। इसे देखते हुए अमेरिकी फेडरल रिजर्व हॉकिश रुख अपना सकता है। ऐसी परिस्थिति रिस्‍की एसेट्स जैसे इक्विटी के लिए नकारात्‍मक है। खास तौर से तक जब वैश्विक ग्रोथ में गिरावट देखी जा रही हो। भारतीय शेयर बाजार में स्थिरता तभी आएगी जब अमेरिकी शेयर बाजार स्थिर होते हैं।

इन तीन वजहों से शेयर बाजार में आई साल की सबसे बड़ी गिरावट, दो दिन में निवेशकों के 10 लाख करोड़ डूबे

प्रतीकात्मक तस्वीर

  • नई दिल्ली,
  • 14 फरवरी 2022,
  • (अपडेटेड 14 फरवरी 2022, 10:06 PM IST)
  • Nifty के सभी 50 शेयर टूटे
  • Nifty Bank भारी दबाव में रहा

BSE Sensex सोमवार को 1,747.08 अंक (3 फीसदी) लुढ़कर 56,405.08 अंक पर बंद हुआ. NSE Nifty भी इसी प्रकार 531.95 अंक (3.06 फीसदी) गिरकर 16,842.80 अंक पर बंद हुआ. घरेलू शेयर शेयर मार्केट डाउन क्यूँ होता है बाजारों में करीब एक साल भर में यह सबसे गिरावट रही. इससे पहले 26 फरवरी, 2021 को सेंसेक्स में 1,940 अंक और निफ्टी में 568 अंक की गिरावट आई थी. पिछले दो सत्र में शेयर बाजार में भारी गिरावट से निवेशकों शेयर मार्केट डाउन क्यूँ होता है को काफी अधिक नुकसान हुआ है. पिछले दो सत्र में बिकवाली की वजह से निवेशकों के 12.43 लाख करोड़ रुपये डूब गए हैं. BSE का Combined Market Cap गुरुवार को 267.81 लाख करोड़ रुपये पर रहा था जो सोमवार को गिरकर 255.38 लाख करोड़ रुपये पर रह गया.

क्रिप्टोकरेंसी बाजार डाउन क्यों है? (Why cryptocurrency market is down?)

आम बजट में भारत सरकार द्वारा क्रिप्टोकरेंसी में 30 फीसदी टैक्सेशन की घोषणा के बाद क्रिप्टो मार्केट में बिटकाॅइन के रेट नीचे पहुंच गए। टैक्सेशन की घोषणा के बाद क्रिप्टो निवेशकों में बेचैनी बढ़ गई और इसमें बिकवाली बढ़ गई। यह स्थिति पहली बार नहीं आई है।

क्रिप्टोकरेंसी बाजार क्यों डाउन है? क्यों क्रिप्टो बाजार नीचे है? | Why crypto market is down?

दिसंबर, 2021 में भी सरकार के रवैये ने आम भारतीय क्रिप्टो निवेश्कों को खूब परेशान किया है। उस दौरान भारतीय क्रिप्टो एक्सचेंज पर निवेशकों ने जल्दबाजी में अपनी करेंसी बेच डाली। विशेषज्ञ क्रिप्टोकरेंसी निवेशकों ने इसका लाभ उठाते हुए गिरे भाव पर दांव लगाया एवं क्रिप्टोकरेंसी खरीद ली। वे कीमत गिरने का ही इंतजार कर रहे थे।

क्रिप्टो मार्केट में गिरावट के समय क्या करना चाहिए? (What to do when Crypto market is down?)

किसी भी चीज में गिरावट का अर्थ यह कतई नहीं होता कि आप उसे छोड़ दें। खास तौर पर शेयर मार्केट के जानकार गिरावट के समय ही शेयरों में निवेश बढ़ाने की नसीहत देते हैं।

क्रिप्टो मार्केट में भी यही फार्मूला लागू होता है। यदि कोई निवेशक अच्छे से मार्केट रिसर्च करता है और उसे यह बेस मजबूत दिखता है तो यह क्रिप्टो करेंसी में निवेश का सबसे अच्छा समय कहा जा सकता है।

प्रमुख क्रिप्टो करेंसी में 24 घंटे के भीतर आई गिरावट का लेखा जोखा

अब एक नजर डाल लेते हैं पिछले 24 घंटे के भीतर प्रमुख क्रिप्टो करेंसी में आई गिरावट के स्तर पर। यह निम्नवत है-

हमने इस पोस्ट के माध्यम से आपको बताया कि क्रिप्टोकरेंसी बाजार क्यों डाउन है। यदि आप भी इस करेंसी में इन्वेस्ट करने के इच्छुक हैं तो उससे पहले इस मार्केट के उतार-चढ़ाव को अच्छी तरह से समझ लें।

इस पोस्ट को लेकर आपके मस्तिष्क में कोई शक शुबहा है तो हमसे पूछ सकते हैं। करेंसी के संबंध में जागरूकता के मद्देनजर इस पोस्ट को अधिक से अधिक शेयर करना न भूलें। धन्यवाद।

Share Market Update: 4 दिन में निवेशकों के 8 लाख करोड़ डूबे, जानें क्यों लगातार गिर रहा है शेयर मार्केट

Share Market Update: 4 दिन में निवेशकों के 8 लाख करोड़ डूबे, जानें क्यों लगातार गिर रहा है शेयर मार्केट

Share Market Update । शेयर बाजार के लिए बीता सप्ताह काफी नुकसानदायक साबित हुआ है। बीते 4 दिनों में शेयर मार्केट में काफी तेज गिरावट देखने को मिली है। इस दौरान सेंसेक्स 2500 अंक की गिरावट झेल चुका है। साथ निफ्टी 700 अंक नीचे चला गया। शेयर मार्केट से जुड़े जानकारों का शेयर मार्केट डाउन क्यूँ होता है मानना है कि कमजोर रुपया और भारतीय बाजारों से पैसा निकालने वाले एफआईआई ट्रेंड रिवर्सल के चलते बाजार में गिरावट आई है। साथ कई कंपनियों का प्रदर्शन भी उम्मीदों पर खरा नहीं उतरा है।

4 दिन में निवेशकों को 8 लाख करोड़ का घाटा

शेयर अवॉएड करने की सलाह

Zomato ने अपनी लिस्टिंग के बाद से ही महत्वपूर्ण अंडरपरफॉर्मेंस देखा है और इसमें रिकॉर्ड हाई से भारी गिरावट आई है. ग्लोबल लेवल पर केंद्रीय बैंकों द्वारा दर रेट हाइक की शुरुआत और तकनीकी क्षेत्र में भारी बिकवाली की वजह से निवेशकों ने शेयर से दूरी बनाई. इसके अलावा, कंपनी को प्रॉफिटेबिलिटी दिखाने में अभी समय लगेगा. बाजार के मौजूदा सेंटीमेंट की बात करें तो उन स्टार्टअप्स पर दबाव है, जिनमें अभी मुनाफा नहीं आ रहा है. उन्होंने ऑनलाइन फूड सर्विसेज प्लेटफार्म में मजबूत स्थिति के बावजूद Zomato का शेयर अवॉएंड करने की सलाह दी है.

हाल ही में Zomato ने स्टॉक एक्सचेंज को जानकारीद दी थी कि कंपनी बोर्ड ने क्विक कॉमर्स कंपनी ब्लिंक कॉमर्स (पूर्व में ग्रोफर्स इंडिया) के 33,018 इक्विटी शेयरों के अधिग्रहण को मंजूरी दे दी है. यह 4,447.48 करोड़ रुपये में एक ऑल-स्टॉक डील है. यह अधिग्रहण 13,46,986.01 रुपये प्रति शेयर की कीमत पर है. Blinkit का कामकाज 15 शहरों में फैला है. कंपनी का एवरेज डिलीवरी टाइम 15 मिनट से कम है. एवरेज ऑर्डर वैल्यू जोमैटो के मुकाबले ज्यादा है. मई में Blinkit ने करीब 79 लाख ऑर्डर दर्ज किए थे और शेयर मार्केट डाउन क्यूँ होता है एवरेज ऑर्डर वैल्यू 509 रुपये थी. ऐसे में जोमेटो को अपने डिलीवरी फ्लीट का बेहतर उपयोग करने में भी मदद मिलेगी.

रेटिंग: 4.70
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 162
उत्तर छोड़ दें

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा| अपेक्षित स्थानों को रेखांकित कर दिया गया है *